b-zaahir kya hai jo haasil nahin hai | ब-ज़ाहिर क्या है जो हासिल नहीं है - Javed Akhtar

b-zaahir kya hai jo haasil nahin hai
magar ye to meri manzil nahin hai

ye tooda ret ka hai beech dariya
ye bah jaayega ye saahil nahin hai

bahut aasaan hai pehchaan us ki
agar dukhta nahin to dil nahin hai

musaafir vo ajab hai kaarwaan mein
ki jo hamraah hai shaamil nahin hai

bas ik maqtool hi maqtool kab hai
bas ik qaateel hi to qaateel nahin hai

kabhi to raat ko tum raat kah do
ye kaam itna bhi ab mushkil nahin hai

ब-ज़ाहिर क्या है जो हासिल नहीं है
मगर ये तो मिरी मंज़िल नहीं है

ये तूदा रेत का है बीच दरिया
ये बह जाएगा ये साहिल नहीं है

बहुत आसान है पहचान उस की
अगर दुखता नहीं तो दिल नहीं है

मुसाफ़िर वो अजब है कारवाँ में
कि जो हमराह है शामिल नहीं है

बस इक मक़्तूल ही मक़्तूल कब है
बस इक क़ातिल ही तो क़ातिल नहीं है

कभी तो रात को तुम रात कह दो
ये काम इतना भी अब मुश्किल नहीं है

- Javed Akhtar
2 Likes

Manzil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Manzil Shayari Shayari