jab saba aayi idhar zikr-e-bahaar aa hi gaya | जब सबा आई इधर ज़िक्र-ए-बहार आ ही गया - Kaleem Aajiz

jab saba aayi idhar zikr-e-bahaar aa hi gaya
yaad ham ko inqilaab-e-rozgaar aa hi gaya

kis liye ab jabr ki takleef farmaate hain aap
banda-parvar main to zer-e-ikhtiyaar aa hi gaya

laala-o-gul par jo guzri hai guzarne deejie
aap ko to meherbaan lutf-e-bahaar aa hi gaya

dehr mein rasm-e-wafa badnaam ho kar hi rahi
ham bachaate hi rahe daaman ghubaar aa hi gaya

hans ke bole ab tujhe zanjeer ki haajat nahin
un ko meri bebaasi ka e'tibaar aa hi gaya

shikwa-sanji apni aadat mein nahin daakhil magar
dil dukha to lab pe harf-e-naagawaar aa hi gaya

जब सबा आई इधर ज़िक्र-ए-बहार आ ही गया
याद हम को इंक़लाब-ए-रोज़गार आ ही गया

किस लिए अब जब्र की तकलीफ़ फ़रमाते हैं आप
बंदा-परवर मैं तो ज़ेर-ए-इख़्तियार आ ही गया

लाला-ओ-गुल पर जो गुज़री है गुज़रने दीजिए
आप को तो मेहरबाँ लुत्फ़-ए-बहार आ ही गया

दहर में रस्म-ए-वफ़ा बदनाम हो कर ही रही
हम बचाते ही रहे दामन ग़ुबार आ ही गया

हँस के बोले अब तुझे ज़ंजीर की हाजत नहीं
उन को मेरी बेबसी का ए'तिबार आ ही गया

शिकवा-संजी अपनी आदत में नहीं दाख़िल मगर
दिल दुखा तो लब पे हर्फ़-ए-नागवार आ ही गया

- Kaleem Aajiz
2 Likes

Aadat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaleem Aajiz

As you were reading Shayari by Kaleem Aajiz

Similar Writers

our suggestion based on Kaleem Aajiz

Similar Moods

As you were reading Aadat Shayari Shayari