ye aansu be-sabab jaari nahin hai | ये आँसू बे-सबब जारी नहीं है - Kaleem Aajiz

ye aansu be-sabab jaari nahin hai
mujhe rone ki beemaari nahin hai

na poocho zakhm-ha-e-dil ka aalam
chaman mein aisi gul-kaari nahin hai

bahut dushwaar samjhaana hai gham ka
samajh lene mein dushwaari nahin hai

ghazal hi gungunaane do ki mujh ko
mizaaj-e-talkh-guftaari nahin hai

chaman mein kyun chaloon kaanton se bach kar
ye aaeen-e-wafaadaari nahin hai

vo aayein qatl ko jis roz chahein
yahan kis roz tayyaari nahin hai

ये आँसू बे-सबब जारी नहीं है
मुझे रोने की बीमारी नहीं है

न पूछो ज़ख़्म-हा-ए-दिल का आलम
चमन में ऐसी गुल-कारी नहीं है

बहुत दुश्वार समझाना है ग़म का
समझ लेने में दुश्वारी नहीं है

ग़ज़ल ही गुनगुनाने दो कि मुझ को
मिज़ाज-ए-तल्ख़-गुफ़्तारी नहीं है

चमन में क्यूँ चलूँ काँटों से बच कर
ये आईन-ए-वफ़ादारी नहीं है

वो आएँ क़त्ल को जिस रोज़ चाहें
यहाँ किस रोज़ तय्यारी नहीं है

- Kaleem Aajiz
0 Likes

Bimar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaleem Aajiz

As you were reading Shayari by Kaleem Aajiz

Similar Writers

our suggestion based on Kaleem Aajiz

Similar Moods

As you were reading Bimar Shayari Shayari