be-ravi o zulf-e-yaar hai rone se kaam yaa | बे-रवी ओ ज़ुल्फ़-ए-यार है रोने से काम याँ - Meer Taqi Meer

be-ravi o zulf-e-yaar hai rone se kaam yaa
daaman hai munh pe abr-e-namat subh-o-shaam yaa

aawaaza hi jahaan mein hamaara suna karo
anqa ke taur zeest hai apni b-naam yaa

wasf-e-dahan se us ke na aage qalam chale
ya'ni kya hai khaame ne khatm kalaam yaa

ghalib ye hai ki mausam-e-khat waan qareeb hai
aane laga hai muttasil us ka payaam yaa

mat kha fareb-e-izz azezaan-e-haal ka
pinhaan kiye hain khaak mein yaaron ne daam yaa

koi hua na dast-basar shahr-e-husn mein
shaayad nahin hai rasm-e-jawaab salaam yaa

naakaam rahne hi ka tumhein gham hai aaj meer
sudhrenge ke kaam ho gaye hain kul tamaam yaa

बे-रवी ओ ज़ुल्फ़-ए-यार है रोने से काम याँ
दामन है मुँह पे अब्र-ए-नमत सुब्ह-ओ-शाम याँ

आवाज़ा ही जहाँ में हमारा सुना करो
अन्क़ा के तौर ज़ीस्त है अपनी ब-नाम याँ

वस्फ़-ए-दहन से उस के न आगे क़लम चले
या'नी क्या है ख़ामे ने ख़त्म कलाम याँ

ग़ालिब ये है कि मौसम-ए-ख़त वाँ क़रीब है
आने लगा है मुत्तसिल उस का पयाम याँ

मत खा फ़रेब-ए-इज्ज़ अज़ीज़ान-ए-हाल का
पिन्हाँ किए हैं ख़ाक में यारों ने दाम याँ

कोई हुआ न दस्त-बसर शहर-ए-हुस्न में
शायद नहीं है रस्म-ए-जवाब सलाम याँ

नाकाम रहने ही का तुम्हें ग़म है आज 'मीर'
बहुतों के काम हो गए हैं कुल तमाम याँ

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari