ham bhi firte hain yak hashm le kar | हम भी फिरते हैं यक हशम ले कर - Meer Taqi Meer

ham bhi firte hain yak hashm le kar
dasta-e-daag-o-fauj-e-gham le kar

dast-kash naala pesh-rau giryaa
aah chalti hai yaa ilm le kar

marg ik maandagi ka waqfa hai
ya'ni aage chalenge dam le kar

us ke oopar ki dil se tha nazdeek
gham-e-doori chale hain ham le kar

teri vaz-e-sitam se ai be-dard
ek aalam gaya alam le kar

baarha said-gah se us ki gaye
daag-e-yaas aahu-e-haram le kar

zof yaa tak khincha ki soorat-gar
rah gaye haath mein qalam le kar

dil pe kab iktifa kare hai ishq
jaayega jaan bhi ye gham le kar

shauq agar hai yahi to ai qaasid
ham bhi aate hain ab raqam le kar

meer'-saahib hi chooke ae bad-ahd
warna dena tha dil qasam le kar

हम भी फिरते हैं यक हशम ले कर
दस्ता-ए-दाग़-ओ-फ़ौज-ए-ग़म ले कर

दस्त-कश नाला पेश-रौ गिर्या
आह चलती है याँ इल्म ले कर

मर्ग इक माँदगी का वक़्फ़ा है
या'नी आगे चलेंगे दम ले कर

उस के ऊपर कि दिल से था नज़दीक
ग़म-ए-दूरी चले हैं हम ले कर

तेरी वज़-ए-सितम से ऐ बे-दर्द
एक आलम गया अलम ले कर

बारहा सैद-गह से उस की गए
दाग़-ए-यास आहु-ए-हरम ले कर

ज़ोफ़ याँ तक खिंचा कि सूरत-गर
रह गए हाथ में क़लम ले कर

दिल पे कब इक्तिफ़ा करे है इश्क़
जाएगा जान भी ये ग़म ले कर

शौक़ अगर है यही तो ऐ क़ासिद
हम भी आते हैं अब रक़म ले कर

'मीर'-साहिब ही चूके ए बद-अहद
वर्ना देना था दिल क़सम ले कर

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Bimari Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Bimari Shayari Shayari