jab rone baithta hoon tab kya kasar rahe hai | जब रोने बैठता हूँ तब क्या कसर रहे है - Meer Taqi Meer

jab rone baithta hoon tab kya kasar rahe hai
roomaal do do din tak jun abr tar rahe hai

aah-e-sehr ki meri barchi ke vasvase se
khurshid ke munh oopar akshar sipar rahe hai

aagah to rahiye us ki tarz-e-rah-o-ravish se
aane mein us ke lekin kis ko khabar rahe hai

un rozon itni ghaflat achhi nahin idhar se
ab iztiraab ham ko do do pahar rahe hai

aab-e-hayaat ki si saari ravish hai us ki
par jab vo uth chale hai ek aadh mar rahe hai

talwaar ab laga hai be-dol paas rakhne
khoon aaj kal kisoo ka vo shokh kar rahe hai

dar se kabhu jo aate dekha hai main ne us ko
tab se udhar hi akshar meri nazar rahe hai

aakhir kahaan talak ham ik roz ho chukenge
barson se waada-e-shab har subh par rahe hai

meer ab bahaar aayi sehra mein chal junoon kar
koi bhi fasl-e-gul mein naadaan ghar rahe hai

जब रोने बैठता हूँ तब क्या कसर रहे है
रूमाल दो दो दिन तक जूँ अब्र तर रहे है

आह-ए-सहर की मेरी बर्छी के वसवसे से
ख़ुर्शीद के मुँह ऊपर अक्सर सिपर रहे है

आगह तो रहिए उस की तर्ज़-ए-रह-ओ-रविश से
आने में उस के लेकिन किस को ख़बर रहे है

उन रोज़ों इतनी ग़फ़लत अच्छी नहीं इधर से
अब इज़्तिराब हम को दो दो पहर रहे है

आब-ए-हयात की सी सारी रविश है उस की
पर जब वो उठ चले है एक आध मर रहे है

तलवार अब लगा है बे-डोल पास रखने
ख़ून आज कल किसू का वो शोख़ कर रहे है

दर से कभू जो आते देखा है मैं ने उस को
तब से उधर ही अक्सर मेरी नज़र रहे है

आख़िर कहाँ तलक हम इक रोज़ हो चुकेंगे
बरसों से वादा-ए-शब हर सुब्ह पर रहे है

'मीर' अब बहार आई सहरा में चल जुनूँ कर
कोई भी फ़स्ल-ए-गुल में नादान घर रहे है

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Diwangi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Diwangi Shayari Shayari