kahe hai kohkan kar fikr meri khasta-haali mein | कहे है कोहकन कर फ़िक्र मेरी ख़स्ता-हाली में - Meer Taqi Meer

kahe hai kohkan kar fikr meri khasta-haali mein
ilaahi shukr karta hoon tiri dargaah aali mein

main vo pazmurda sabza hoon ki ho kar khaak se sarzad
yakaayak aa gaya us aasmaan ki paayemaali mein

tu sach kah rang paan hai ye ki khoon ishq-baazan hai
sukhun rakhte hain kitne shakhs tere lab ki laali mein

bura kehna bhi mera khush na aaya us ko to warna
tasalli ye dil-e-naashaad hota ek gaali mein

mere ustaad ko firdaus-e-a'la mein mile jaaga
padaaya kuchh na ghair-az-ishq mujh ko khurd-saali mein

kharaabi ishq se rahti hai dil par aur nahin rehta
nihaayat aib hai ye is dayaar-e-gham ke waali mein

nigaah-e-chashm pur-khashm-e-butaan par mat nazar rakhna
mila hai zahar ai dil is sharaab-e-purtagaali mein

sharaab-e-khoon bin tadapuun se dil labreiz rehta hai
bhare hain sang-reze main nay is meena-e-khaali mein

khilaaf un aur khooban ke sada ye jee mein rehta hai
yahi to meer ik khoobi hai ma'shooq-e-khayaali mein

कहे है कोहकन कर फ़िक्र मेरी ख़स्ता-हाली में
इलाही शुक्र करता हूँ तिरी दरगाह आली में

मैं वो पज़मुर्दा सब्ज़ा हूँ कि हो कर ख़ाक से सरज़द
यकायक आ गया उस आसमाँ की पाएमाली में

तू सच कह रंग पाँ है ये कि ख़ून इश्क़-बाज़ाँ है
सुख़न रखते हैं कितने शख़्स तेरे लब की लाली में

बुरा कहना भी मेरा ख़ुश न आया उस को तो वर्ना
तसल्ली ये दिल-ए-नाशाद होता एक गाली में

मिरे उस्ताद को फ़िरदौस-ए-आ'ला में मिले जागा
पढ़ाया कुछ न ग़ैर-अज़-इश्क़ मुझ को ख़ुर्द-साली में

ख़राबी इश्क़ से रहती है दिल पर और नहीं रहता
निहायत ऐब है ये इस दयार-ए-ग़म के वाली में

निगाह-ए-चश्म पुर-ख़श्म-ए-बुताँ पर मत नज़र रखना
मिला है ज़हर ऐ दिल इस शराब-ए-पुरतगाली में

शराब-ए-ख़ून बिन तड़पूँ से दिल लबरेज़ रहता है
भरे हैं संग-रेज़े मैं नय इस मीना-ए-ख़ाली में

ख़िलाफ़ उन और ख़ूबाँ के सदा ये जी में रहता है
यही तो 'मीर' इक ख़ूबी है मा'शूक़-ए-ख़याली में

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari