nikle hai jins-e-husn kisi kaarwaan mein | निकले है जिंस-ए-हुस्न किसी कारवाँ में - Meer Taqi Meer

nikle hai jins-e-husn kisi kaarwaan mein
ye vo nahin mataa ki ho har dukaan mein

jaata hai ik hujoom-e-gham ishq-jee ke saath
hangaama le chale hain ham us bhi jahaan mein

yaarab koi to vaasta sargoshtagi ka hai
yak ishq bhar raha hai tamaam aasmaan mein

ham us se aah soz-e-dil apna na kah sake
the aatish-e-daroo se fafole zabaan mein

gham kheenchne ko kuchh to tawaanai chahiye
sivayyaan na dil mein taab na taqat hai jaan mein

ghaafil na rahiyo ham se ki ham ve nahin rahe
hota hai ab to haal ajab ek aan mein

ve din gaye ki aatish-e-gham dil mein thi nihaan
sozish rahe hai ab to har ik ustukhwaan mein

dil nazar-o-deeda-pesh-kash ai bais-e-hayaat
sach kah ki jee lage hai tira kis makaan mein

kheecha na kar tu teg ki ik din nahin hain ham
zalim qabaahaten hain bahut imtihaan mein

faara hazaar ja se garebaan-e-sabr-e-'meer
kya kah gai naseem-e-sehr gul ke kaan mein

निकले है जिंस-ए-हुस्न किसी कारवाँ में
ये वो नहीं मताअ' कि हो हर दुकान में

जाता है इक हुजूम-ए-ग़म इश्क़-जी के साथ
हंगामा ले चले हैं हम उस भी जहान में

यारब कोई तो वास्ता सर-गश्तगी का है
यक इश्क़ भर रहा है तमाम आसमान में

हम उस से आह सोज़-ए-दिल अपना न कह सके
थे आतिश-ए-दरूँ से फफोले ज़बान में

ग़म खींचने को कुछ तो तवानाई चाहिए
सिवय्याँ न दिल में ताब न ताक़त है जान में

ग़ाफ़िल न रहियो हम से कि हम वे नहीं रहे
होता है अब तो हाल अजब एक आन में

वे दिन गए कि आतिश-ए-ग़म दिल में थी निहाँ
सोज़िश रहे है अब तो हर इक उस्तुख़्वान में

दिल नज़र-ओ-दीदा-पेश-कश ऐ बाइस-ए-हयात
सच कह कि जी लगे है तिरा किस मकान में

खींचा न कर तू तेग़ कि इक दिन नहीं हैं हम
ज़ालिम क़बाहतें हैं बहुत इम्तिहान में

फाड़ा हज़ार जा से गरेबान-ए-सब्र-ए-'मीर'
क्या कह गई नसीम-ए-सहर गुल के कान में

- Meer Taqi Meer
0 Likes

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari