samjhe the meer ham ki ye naasoor kam hua | समझे थे 'मीर' हम कि ये नासूर कम हुआ - Meer Taqi Meer

samjhe the meer ham ki ye naasoor kam hua
phir un dinon main deedaa-e-khoon-baar nam hua

aaye b-rang-e-abr araq-naak tum udhar
hairaan hoon ki aaj kidhar ko karam hua

tujh bin sharaab pee ke mooe sab tire kharab
saaqi baghair tere unhen jaam-e-sam hua

kaafir hamaare dil ki na pooch apne ishq mein
bait-ul-haram tha so vo baitus-sanam hua

khaana-kharaab kis ka kiya teri chashm ne
tha kaun yun jise tu naseeb ek dam hua

talwaar kis ke khoon mein sar doob hai tiri
ye kis ajl-raseeda ke ghar par sitam hua

aayi nazar jo gor sulaimaan ki ek roz
kooche par us mazaar ke tha ye raqam hua

ka-e-sar-kashaan jahaan mein kheecha tha mein bhi sar
paayaan-e-kaar mor ki khaak-e-qadam hua

afsos ki bhi chashm thi un se khilaaf-e-aql
baar-e-ilaqa se to abas pusht-e-kham hua

ahl-e-jahaan hain saare tire jeete-ji talak
poochhenge bhi na baat jahaan to adam hua

kya kya aziz dost mile meer khaak mein
naadaan yaa kaso ka kaso ko bhi gham hua

समझे थे 'मीर' हम कि ये नासूर कम हुआ
फिर उन दिनों मैं दीदा-ए-ख़ूँ-बार नम हुआ

आए ब-रंग-ए-अब्र अरक़-नाक तुम उधर
हैरान हूँ कि आज किधर को करम हुआ

तुझ बिन शराब पी के मूए सब तिरे ख़राब
साक़ी बग़ैर तेरे उन्हें जाम-ए-सम हुआ

काफ़िर हमारे दिल की न पूछ अपने इश्क़ में
बैत-उल-हराम था सो वो बैतुस-सनम हुआ

ख़ाना-ख़राब किस का किया तेरी चश्म ने
था कौन यूँ जिसे तू नसीब एक दम हुआ

तलवार किस के ख़ून में सर डूब है तिरी
ये किस अजल-रसीदा के घर पर सितम हुआ

आई नज़र जो गोर सुलैमाँ की एक रोज़
कूचे पर उस मज़ार के था ये रक़म हुआ

का-ए-सर-कशाँ जहान में खींचा था में भी सर
पायान-ए-कार मोर की ख़ाक-ए-क़दम हुआ

अफ़्सोस की भी चश्म थी उन से ख़िलाफ़-ए-अक़्ल
बार-ए-इलाक़ा से तो अबस पुश्त-ए-ख़म हुआ

अहल-ए-जहाँ हैं सारे तिरे जीते-जी तलक
पूछेंगे भी न बात जहाँ तो अदम हुआ

क्या क्या अज़ीज़ दोस्त मिले 'मीर' ख़ाक में
नादान याँ कसो का कसो को भी ग़म हुआ

- Meer Taqi Meer
1 Like

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari