bahut sahi gham-e-geeti sharaab kam kya hai | बहुत सही ग़म-ए-गीती शराब कम क्या है - Mirza Ghalib

bahut sahi gham-e-geeti sharaab kam kya hai
ghulaam-e-saaqi-e-kausar hoon mujh ko gham kya hai

tumhaari tarz-o-ravish jaante hain ham kya hai
raqeeb par hai agar lutf to sitam kya hai

sukhun mein khaama-e-ghalib ki aatish-afshaani
yaqeen hai ham ko bhi lekin ab us mein dam kya hai

kate to shab kahein kaate to saanp kahlaave
koi batao ki vo zulf-e-kham-b-kham kya hai

likha kare koi ahkaam-e-taala-e-maulood
kise khabar hai ki waan jumbish-e-qalam kya hai

na hashr-o-nashr ka qaael na kesh. o millat ka
khuda ke vaaste aise ki phir qasam kya hai

vo daad-o-deed garaan-maaya shart hai hamdam
vagarna mehr-e-sulemaan-o-jaam-e-jam kya hai

बहुत सही ग़म-ए-गीती शराब कम क्या है
ग़ुलाम-ए-साक़ी-ए-कौसर हूँ मुझ को ग़म क्या है

तुम्हारी तर्ज़-ओ-रविश जानते हैं हम क्या है
रक़ीब पर है अगर लुत्फ़ तो सितम क्या है

सुख़न में ख़ामा-ए-ग़ालिब की आतिश-अफ़्शानी
यक़ीं है हम को भी लेकिन अब उस में दम क्या है

कटे तो शब कहें काटे तो साँप कहलावे
कोई बताओ कि वो ज़ुल्फ़-ए-ख़म-ब-ख़म क्या है

लिखा करे कोई अहकाम-ए-ताला-ए-मौलूद
किसे ख़बर है कि वाँ जुम्बिश-ए-क़लम क्या है

न हश्र-ओ-नश्र का क़ाएल न केश ओ मिल्लत का
ख़ुदा के वास्ते ऐसे की फिर क़सम क्या है

वो दाद-ओ-दीद गराँ-माया शर्त है हमदम
वगर्ना मेहर-ए-सुलेमान-ओ-जाम-ए-जम क्या है

- Mirza Ghalib
1 Like

Nasha Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Nasha Shayari Shayari