jis ja naseem shaana-kash-e-zulf-e-yaar hai | जिस जा नसीम शाना-कश-ए-ज़ुल्फ़-ए-यार है - Mirza Ghalib

jis ja naseem shaana-kash-e-zulf-e-yaar hai
naafa dimaagh-e-aahu-e-dasht-e-tataar hai

kis ka suraagh jalwa hai hairat ko ai khuda
aaina farsh-e-shash-jahat-e-intizaar hai

hai zarra zarra tangi-e-jaa se ghubaar-e-shauq
gar daam ye hai wusa'at-e-sehra shikaar hai

dil muddai o deeda bana mudda-alaih
nazzare ka muqaddama phir roo-b-kaar hai

chhidke hai shabnam aaina-e-burg-e-gul par aab
ai andaleeb waqt-e-wada-e-bahaar hai

pach aa padi hai waada-e-dil-daar ki mujhe
vo aaye ya na aaye pe yaa intizaar hai

be-parda soo-e-waadi-e-majnoon guzar na kar
har zarra ke naqaab mein dil be-qaraar hai

ai andaleeb yak kaf-e-khas bahr-e-aashyaan
toofaan-e-aamad aamad-e-fasl-e-bahaar hai

dil mat ganwa khabar na sahi sair hi sahi
ai be-dimaagh aaina timsaal-daar hai

ghaflat kafeel-e-umr o asad zaamin-e-nashaat
ai marg-e-na-gahaan tujhe kya intizaar hai

जिस जा नसीम शाना-कश-ए-ज़ुल्फ़-ए-यार है
नाफ़ा दिमाग़-ए-आहु-ए-दश्त-ए-ततार है

किस का सुराग़ जल्वा है हैरत को ऐ ख़ुदा
आईना फ़र्श-ए-शश-जहत-ए-इंतिज़ार है

है ज़र्रा ज़र्रा तंगी-ए-जा से ग़ुबार-ए-शौक़
गर दाम ये है वुसअ'त-ए-सहरा शिकार है

दिल मुद्दई' ओ दीदा बना मुद्दा-अलैह
नज़्ज़ारे का मुक़द्दमा फिर रू-ब-कार है

छिड़के है शबनम आईना-ए-बर्ग-ए-गुल पर आब
ऐ अंदलीब वक़्त-ए-वदा-ए-बहार है

पच आ पड़ी है वादा-ए-दिल-दार की मुझे
वो आए या न आए पे याँ इंतिज़ार है

बे-पर्दा सू-ए-वादी-ए-मजनूँ गुज़र न कर
हर ज़र्रा के नक़ाब में दिल बे-क़रार है

ऐ अंदलीब यक कफ़-ए-ख़स बहर-ए-आशयाँ
तूफ़ान-ए-आमद आमद-ए-फ़स्ल-ए-बहार है

दिल मत गँवा ख़बर न सही सैर ही सही
ऐ बे-दिमाग़ आईना तिमसाल-दार है

ग़फ़लत कफ़ील-ए-उम्र ओ 'असद' ज़ामिन-ए-नशात
ऐ मर्ग-ए-ना-गहाँ तुझे क्या इंतिज़ार है

- Mirza Ghalib
1 Like

Bekhabri Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Bekhabri Shayari Shayari