hairaan hoon dil ko rooun ki peetoon jigar ko main | हैराँ हूँ दिल को रोऊँ कि पीटूँ जिगर को मैं - Mirza Ghalib

hairaan hoon dil ko rooun ki peetoon jigar ko main
maqdoor ho to saath rakhoon nauhagar ko main

chhodaa na rashk ne ki tire ghar ka naam luun
har ik se poochta hoon ki jaaun kidhar ko main

jaana pada raqeeb ke dar par hazaar baar
ai kaash jaanta na tire rah-guzar ko main

hai kya jo kas ke baandhie meri bala dare
kya jaanta nahin hoon tumhaari kamar ko main

lo vo bhi kahte hain ki ye be-nang-o-naam hai
ye jaanta agar to lutaata na ghar ko main

chalta hoon thodi door har ik tez-rau ke saath
pahchaanta nahin hoon abhi raahbar ko main

khwaahish ko ahmaqon ne parastish diya qaraar
kya poojta hoon us but-e-bedad-gar ko main

phir be-khudi mein bhool gaya raah-e-koo-e-yaar
jaata vagarna ek din apni khabar ko main

apne pe kar raha hoon qayaas ahl-e-dehr ka
samjha hoon dil-pazeer mata-e-hunar ko main

ghalib khuda kare ki sawaar-e-samand-naaz
dekhoon ali bahaadur-e-aali-guhar ko main

हैराँ हूँ दिल को रोऊँ कि पीटूँ जिगर को मैं
मक़्दूर हो तो साथ रखूँ नौहागर को मैं

छोड़ा न रश्क ने कि तिरे घर का नाम लूँ
हर इक से पूछता हूँ कि जाऊँ किधर को मैं

जाना पड़ा रक़ीब के दर पर हज़ार बार
ऐ काश जानता न तिरे रह-गुज़र को मैं

है क्या जो कस के बाँधिए मेरी बला डरे
क्या जानता नहीं हूँ तुम्हारी कमर को मैं

लो वो भी कहते हैं कि ये बे-नंग-ओ-नाम है
ये जानता अगर तो लुटाता न घर को मैं

चलता हूँ थोड़ी दूर हर इक तेज़-रौ के साथ
पहचानता नहीं हूँ अभी राहबर को मैं

ख़्वाहिश को अहमक़ों ने परस्तिश दिया क़रार
क्या पूजता हूँ उस बुत-ए-बेदाद-गर को मैं

फिर बे-ख़ुदी में भूल गया राह-ए-कू-ए-यार
जाता वगर्ना एक दिन अपनी ख़बर को मैं

अपने पे कर रहा हूँ क़यास अहल-ए-दहर का
समझा हूँ दिल-पज़ीर मता-ए-हुनर को मैं

'ग़ालिब' ख़ुदा करे कि सवार-ए-समंद-नाज़
देखूँ अली बहादुर-ए-आली-गुहर को मैं

- Mirza Ghalib
2 Likes

Bekhabri Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Bekhabri Shayari Shayari