ek chehra jo mere khwaab saja deta hai | एक चेहरा जो मेरे ख़्वाब सजा देता है - Mohsin Naqvi

ek chehra jo mere khwaab saja deta hai
mujh ko mere hi khyaalon mein sada deta hai

vo mera kaun hai maaloom nahin hai lekin
jab bhi milta hai to pahluu mein jaga deta hai

main jo andar se kabhi toot ke bikharoon
vo mujh ko thaamne ke liye haath badha deta hai

main jo tanha kabhi chupke se bhi rona chaahoon
to dil ke darwaaze ki zanjeer hila deta hai

us ki qurbat mein hai kya baat na jaane mohsin
ek lamhe ke liye sadiyon ko bhula deta hai

एक चेहरा जो मेरे ख़्वाब सजा देता है
मुझ को मेरे ही ख़्यालों में सदा देता है

वो मेरा कौन है मालूम नहीं है लेकिन
जब भी मिलता है तो पहलू में जगा देता है

मैं जो अन्दर से कभी टूट के बिखरूं
वो मुझ को थामने के लिए हाथ बढ़ा देता है

मैं जो तनहा कभी चुपके से भी रोना चाहूँ
तो दिल के दरवाज़े की ज़ंजीर हिला देता है

उस की क़ुर्बत में है क्या बात न जाने “मोहसिन”
एक लम्हे के लिए सदियों को भुला देता है

- Mohsin Naqvi
2 Likes

Aaina Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mohsin Naqvi

As you were reading Shayari by Mohsin Naqvi

Similar Writers

our suggestion based on Mohsin Naqvi

Similar Moods

As you were reading Aaina Shayari Shayari