sehra pe bura waqt mere yaar pada hai | सहरा पे बुरा वक़्त मिरे यार पड़ा है - Munawwar Rana

sehra pe bura waqt mere yaar pada hai
deewaana kai roz se beemaar pada hai

sab raunq-e-sehra thi isee pagle ke dam se
ujda hua deewane ka darbaar pada hai

aankhon se tapakti hai wahi vahshat-e-sehra
kaandhe bhi bataate hain bada baar pada hai

dil mein jo lahu-jheel thi vo sookh chuki hai
aankhon ka do-aabaa hai so be-kaar pada hai

tum kahte the din ho gaye dekha nahin us ko
lo dekh lo ye aaj ka akhbaar pada hai

odhe hue ummeed ki ik mailee si chadar
darwaaza-e-bakhshish pe gunahgaar pada hai

ai khaak-e-watan tujh se main sharminda bahut hoon
mehngaai ke mausam mein ye tyaohar pada hai

सहरा पे बुरा वक़्त मिरे यार पड़ा है
दीवाना कई रोज़ से बीमार पड़ा है

सब रौनक़-ए-सहरा थी इसी पगले के दम से
उजड़ा हुआ दीवाने का दरबार पड़ा है

आँखों से टपकती है वही वहशत-ए-सहरा
काँधे भी बताते हैं बड़ा बार पड़ा है

दिल में जो लहू-झील थी वो सूख चुकी है
आँखों का दो-आबा है सो बे-कार पड़ा है

तुम कहते थे दिन हो गए देखा नहीं उस को
लो देख लो ये आज का अख़बार पड़ा है

ओढ़े हुए उम्मीद की इक मैली सी चादर
दरवाज़ा-ए-बख़्शिश पे गुनहगार पड़ा है

ऐ ख़ाक-ए-वतन तुझ से मैं शर्मिंदा बहुत हूँ
महँगाई के मौसम में ये त्यौहार पड़ा है

- Munawwar Rana
3 Likes

Kashmir Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Munawwar Rana

As you were reading Shayari by Munawwar Rana

Similar Writers

our suggestion based on Munawwar Rana

Similar Moods

As you were reading Kashmir Shayari Shayari