mujahid ki daastaan hai khwaab mere | मुजाहिद की दास्तान है ख़्वाब मेरे - Murli Dhakad

mujahid ki daastaan hai khwaab mere
umr bhar ki thakaan hai khwaab mere

parinde to sabhi hai pinjaron mein kaid
patangon ka aasmaan hai khwaab mere

jahaan sabhi musafir thak haar ke pahunche
jannaton ka shmashaan hai khwaab mere

main is makaan se us makaan mein darbadar
deewaron ke darmiyaan hai khwaab mere

raat bhi badal ke subah ho gai
ab talak veeraan hai khwaab mere

मुजाहिद की दास्तान है ख़्वाब मेरे
उम्र भर की थकान है ख़्वाब मेरे

परिंदे तो सभी है पिंजरों में कैद
पतंगों का आसमान है ख़्वाब मेरे

जहाँ सभी मुसाफिर थक हार के पहुंचे
जन्नतों का श्मशान है ख़्वाब मेरे

मैं इस मकां से उस मकां में दरबदर
दीवारों के दरमियान है ख़्वाब मेरे

रात भी बदल के सुबह हो गई
अब तलक वीरान है ख़्वाब मेरे

- Murli Dhakad
7 Likes

Khwab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Murli Dhakad

As you were reading Shayari by Murli Dhakad

Similar Writers

our suggestion based on Murli Dhakad

Similar Moods

As you were reading Khwab Shayari Shayari