tamaam shahr ko huliya bata diya gaya hai | तमाम शह्‌र को हुलिया बता दिया गया है - Nadir Ariz

tamaam shahr ko huliya bata diya gaya hai
mere firaar ko mushkil bana diya gaya hai

bas ek zid ki use dekhna hai baare-digar
jo kaam aaye the usko bhula diya gaya hai

main jaanisaar hoon ya bewafa batao mujhe
tumhein lahu ka namoona dikha diya gaya hai

bas usko maangata rehta hoon ghar mein baithe hue
mujhe duaon ka chaska laga diya gaya hai

hamein talashne waalon ka rok kar rasta
hamaare baare tajassus badha diya gaya hai

तमाम शह्‌र को हुलिया बता दिया गया है
मिरे फ़रार को मुश्किल बना दिया गया है

बस एक ज़िद कि उसे देखना है बारे-दिगर
जो काम आये थे उसको भुला दिया गया है

मैं जाँनिसार हूँ या बेवफ़ा बताओ मुझे
तुम्हें लहू का नमूना दिखा दिया गया है

बस उसको माँगता रहता हूँ घर में बैठे हुए
मुझे दुआओं का चस्का लगा दिया गया है

हमें तलाशने वालों का रोक कर रस्ता
हमारे बारे तजस्सुस बढ़ा दिया गया है

- Nadir Ariz
0 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nadir Ariz

As you were reading Shayari by Nadir Ariz

Similar Writers

our suggestion based on Nadir Ariz

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari