teri tasveer hamesha hai meri nazaron mein | तेरी तस्वीर हमेशा है मिरी नज़रों में - Nadir Ariz

teri tasveer hamesha hai meri nazaron mein
ye sahoolat bhi ziyaada hai meri nazaron mein

doosre ishq mein nuksaan ka khadsha kam hai
ye sadak usse kushaada hai meri nazaron mein

roop dena hai koi dil ki udaasi ko mujhe
doobti naav ka khaaka hai meri nazaron mein

is jagah aake thehar jaata hai manzar jaise
aapke baad andhera hai meri nazaron mein

us haveli se bahut gahra taalluq tha mera
uska ek aur bhi rasta hai meri nazaron mein

main muhabbat ke khod-o-khaal se waqif to nahin
apne maa baap ka khaaka hai meri nazaron mein

तेरी तस्वीर हमेशा है मिरी नज़रों में
ये सहूलत भी ज़ियादा है मिरी नज़रों में

दूसरे इश्क़ में नुक़सान का ख़दशा कम है
ये सड़क उससे कुशादा है मिरी नज़रों में

रूप देना है कोई दिल की उदासी को मुझे
डूबती नाव का ख़ाका है मिरी नज़रों में

इस जगह आके ठहर जाता है मंज़र जैसे
आपके बाद अँधेरा है मिरी नज़रों में

उस हवेली से बहुत गहरा तअल्लुक़ था मिरा
उसका एक और भी रस्ता है मिरी नज़रों में

मैं मुहब्बत के ख़दो-ख़ाल से वाक़िफ़ तो नहीं
अपने माँ बाप का ख़ाका है मिरी नज़रों में

- Nadir Ariz
0 Likes

Kashti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nadir Ariz

As you were reading Shayari by Nadir Ariz

Similar Writers

our suggestion based on Nadir Ariz

Similar Moods

As you were reading Kashti Shayari Shayari