saare jahaan mein apna koi nahin hamaara | सारे जहाँ में अपना कोई नहीं हमारा - Nizam Fatehpuri

saare jahaan mein apna koi nahin hamaara
hamdard ban ke aakhir sab ne kiya kinaara

naadaan dil ko mere dhokha diya unhonne
jinka tha zindagi mein hamko faqat sahaara

anjaan ban gaye vo barbaad karke mujhko
phir bhi ye dil unhen kuchh kehta nahin bichaara

armaan dil ke saare dil mein machal rahe hain
arz-e-wafa bhi karna hamko nahin gawara

chilman hattee jo rukh se ik aah dil se nikli
main bekhudi mein unka karta raha nazaara

tareekiyo mein bhatke is aas par sada ham
chamkega ek din to taqdeer ka sitaara

marne ka gham nahin hai gham to nizaam ye hai
apni hi saadgi ne apna gala utaara

सारे जहाँ में अपना कोई नहीं हमारा
हमदर्द बन के आख़िर सब ने किया किनारा

नादान दिल को मेरे धोखा दिया उन्होंने
जिनका था ज़िंदगी में हमको फ़क़त सहारा

अंजान बन गए वो बर्बाद करके मुझको
फिर भी ये दिल उन्हें कुछ कहता नहीं बिचारा

अरमान दिल के सारे दिल में मचल रहे हैं
अर्ज़-ए-वफ़ा भी करना हमको नहीं गवारा

चिलमन हटी जो रुख़ से इक आह दिल से निकली
मैं बेख़ुदी में उनका करता रहा नज़ारा

तारीकियों में भटके‌ इस आस पर सदा हम
चमकेगा एक दिन तो तक़दीर का सितारा

मरने का ग़म नहीं है ग़म तो 'निज़ाम' ये है
अपनी ही सादगी ने अपना गला उतारा

- Nizam Fatehpuri
1 Like

Sarhad Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Nizam Fatehpuri

Similar Moods

As you were reading Sarhad Shayari Shayari