veeraan saraaye ka diya hai | वीरान सराए का दिया है - Obaidullah Aleem

veeraan saraaye ka diya hai
jo kaun-o-makaan mein jal raha hai

ye kaisi bichhadne ki saza hai
aaine mein chehra rakh gaya hai

khurshid misaal shakhs kal shaam
mitti ke supurd kar diya hai

tum mar gaye hausla tumhaara
zinda hoon main ye mera hausla hai

andar bhi is zameen ke raushni ho
mitti mein charaagh rakh diya hai

main kaun sa khwaab dekhta hoon
ye kaun se mulk ki fazaa hai

vo kaun sa haath hai ki jis ne
mujh aag ko khaak se likha hai

rakha tha khala mein paanv main ne
raaste mein sitaara aa gaya hai

shaayad ki khuda mein aur mujh mein
ik jast ka aur fasla hai

gardish mein hain kitni kaainaatein
baccha mera paanv chal raha hai

वीरान सराए का दिया है
जो कौन-ओ-मकाँ में जल रहा है

ये कैसी बिछड़ने की सज़ा है
आईने में चेहरा रख गया है

ख़ुर्शीद मिसाल शख़्स कल शाम
मिट्टी के सुपुर्द कर दिया है

तुम मर गए हौसला तुम्हारा
ज़िंदा हूँ मैं ये मेरा हौसला है

अंदर भी इस ज़मीं के रौशनी हो
मिट्टी में चराग़ रख दिया है

मैं कौन सा ख़्वाब देखता हूँ
ये कौन से मुल्क की फ़ज़ा है

वो कौन सा हाथ है कि जिस ने
मुझ आग को ख़ाक से लिखा है

रक्खा था ख़ला में पाँव मैं ने
रस्ते में सितारा आ गया है

शायद कि ख़ुदा में और मुझ में
इक जस्त का और फ़ासला है

गर्दिश में हैं कितनी काएनातें
बच्चा मिरा पाँव चल रहा है

- Obaidullah Aleem
2 Likes

Shama Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Shama Shayari Shayari