kya kare meri masihaai bhi karne waala | क्या करे मेरी मसीहाई भी करने वाला - Parveen Shakir

kya kare meri masihaai bhi karne waala
zakham hi ye mujhe lagta nahin bharne waala

zindagi se kisi samjhaute ke baa-wasf ab tak
yaad aata hai koi maarnay marne waala

us ko bhi ham tire kooche mein guzaar aaye hain
zindagi mein vo jo lamha tha sanwarne waala

us ka andaaz-e-sukhan sab se juda tha shaayad
baat lagti hui lahja vo mukarne waala

shaam hone ko hai aur aankh mein ik khwaab nahin
koi is ghar mein nahin raushni karne waala

dastaras mein hain anaasir ke iraade kis ke
so bikhar ke hi raha koi bikharna waala

isee ummeed pe har shaam bujaaye hain charaagh
ek taara hai sar-e-baam ubharne waala

क्या करे मेरी मसीहाई भी करने वाला
ज़ख़्म ही ये मुझे लगता नहीं भरने वाला

ज़िंदगी से किसी समझौते के बा-वस्फ़ अब तक
याद आता है कोई मारने मरने वाला

उस को भी हम तिरे कूचे में गुज़ार आए हैं
ज़िंदगी में वो जो लम्हा था सँवरने वाला

उस का अंदाज़-ए-सुख़न सब से जुदा था शायद
बात लगती हुई लहजा वो मुकरने वाला

शाम होने को है और आँख में इक ख़्वाब नहीं
कोई इस घर में नहीं रौशनी करने वाला

दस्तरस में हैं अनासिर के इरादे किस के
सो बिखर के ही रहा कोई बिखरने वाला

इसी उम्मीद पे हर शाम बुझाए हैं चराग़
एक तारा है सर-ए-बाम उभरने वाला

- Parveen Shakir
3 Likes

I Miss you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Parveen Shakir

As you were reading Shayari by Parveen Shakir

Similar Writers

our suggestion based on Parveen Shakir

Similar Moods

As you were reading I Miss you Shayari Shayari