tauba kijeye ab fareb-e-dosti khaayenge kya | तौबा कीजे अब फ़रेब-ए-दोस्ती खाएँगे क्या - Qamar Jalalvi

tauba kijeye ab fareb-e-dosti khaayenge kya
aaj tak pachta rahe hain aur pachhtaayenge kya

khud samjhiye zabh hone waale samjhaayenge kya
baat pahunchegi kahaan tak aap kahlaayenge kya

bazm-e-kasrat mein ye kyun hota hai un ka intizaar
pardaa-e-wahdat se vo baahar nikal aayenge kya

kal bahaar aayegi ye sun kar qafas badlo na tum
raat bhar mein qaaidiyon ke par nikal aayenge kya

ai dil-e-muztar inheen baaton se chhoota tha chaman
ab tire naale qafas se bhi nikalwaayenge kya

ai qafas waalo rihaai ki tamannaa hai fuzool
fasl-e-gul aane se pehle par na kat jaayenge kya

shaam-e-gham jal jal ke misl-e-sham'a ho jaaunga khatm
subh ko ahbaab aayenge to dafnaayenge kya

jaanta hoon phoonk dega mere ghar ko baagbaan
aashiyaan ke paas waale phool rah jaayenge kya

un ki mehfil mein chala aaya hai dushman khair ho
misl-e-aadam ham bhi jannat se nikal jaayenge kya

nakhuda maujon mein kashti hai to ho ham ko na dekh
jin ko toofaanon ne paala hai vo ghabraayenge kya

tu ne toofaan dekhte hi kyun nigaahen fer leen
nakhuda ye ahl-e-kashti doob hi jaayenge kya

kyun ye bairoon-e-chaman jalte hue tinke gaye
mere ghar ki aag duniya bhar mein phailaayenge kya

koi to moonis rahega ai qamar shaam-e-firaq
sham'a gul hogi to ye taare bhi chhup jaayenge kya

तौबा कीजे अब फ़रेब-ए-दोस्ती खाएँगे क्या
आज तक पछता रहे हैं और पछताएँगे क्या

ख़ुद समझिए ज़ब्ह होने वाले समझाएँगे क्या
बात पहुँचेगी कहाँ तक आप कहलाएँगे क्या

बज़्म-ए-कसरत में ये क्यूँ होता है उन का इंतिज़ार
पर्दा-ए-वहदत से वो बाहर निकल आएँगे क्या

कल बहार आएगी ये सुन कर क़फ़स बदलो न तुम
रात भर में क़ैदियों के पर निकल आएँगे क्या

ऐ दिल-ए-मुज़्तर इन्हीं बातों से छूटा था चमन
अब तिरे नाले क़फ़स से भी निकलवाएँगे क्या

ऐ क़फ़स वालो रिहाई की तमन्ना है फ़ुज़ूल
फ़स्ल-ए-गुल आने से पहले पर न कट जाएँगे क्या

शाम-ए-ग़म जल जल के मिस्ल-ए-शम्अ हो जाऊँगा ख़त्म
सुब्ह को अहबाब आएँगे तो दफ़नाएँगे क्या

जानता हूँ फूँक देगा मेरे घर को बाग़बाँ
आशियाँ के पास वाले फूल रह जाएँगे क्या

उन की महफ़िल में चला आया है दुश्मन ख़ैर हो
मिस्ल-ए-आदम हम भी जन्नत से निकल जाएँगे क्या

नाख़ुदा मौजों में कश्ती है तो हो हम को न देख
जिन को तूफ़ानों ने पाला है वो घबराएँगे क्या

तू ने तूफ़ाँ देखते ही क्यूँ निगाहें फेर लीं
नाख़ुदा ये अहल-ए-कश्ती डूब ही जाएँगे क्या

क्यूँ ये बैरून-ए-चमन जलते हुए तिनके गए
मेरे घर की आग दुनिया भर में फैलाएँगे क्या

कोई तो मूनिस रहेगा ऐ 'क़मर' शाम-ए-फ़िराक़
शम्अ गुल होगी तो ये तारे भी छुप जाएँगे क्या

- Qamar Jalalvi
0 Likes

Rose Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Qamar Jalalvi

As you were reading Shayari by Qamar Jalalvi

Similar Writers

our suggestion based on Qamar Jalalvi

Similar Moods

As you were reading Rose Shayari Shayari