ab apni rooh ke chhaalon ka kuchh hisaab karoon | अब अपनी रूह के छालों का कुछ हिसाब करूँ - Rahat Indori

ab apni rooh ke chhaalon ka kuchh hisaab karoon
main chahta tha charaagon ko aftaab karoon

mujhe buton se ijaazat agar kabhi mil jaaye
to shahr-bhar ke khudaaon ko be-naqaab karoon

us aadmi ko bas ik dhun sawaar rahti hai
bahut haseen hai duniya ise kharab karoon

hai mere chaaron taraf bheed goonge behron ki
kise khateeb banaaun kise khitaab karoon

main karvaton ke naye zaa'iqe likhoon shab-bhar
ye ishq hai to kahaan zindagi azaab karoon

ye zindagi jo mujhe qarz-daar karti rahi
kahi akela mein mil jaaye to hisaab karoon

अब अपनी रूह के छालों का कुछ हिसाब करूँ
मैं चाहता था चराग़ों को आफ़्ताब करूँ

मुझे बुतों से इजाज़त अगर कभी मिल जाए
तो शहर-भर के ख़ुदाओं को बे-नक़ाब करूँ

उस आदमी को बस इक धुन सवार रहती है
बहुत हसीन है दुनिया इसे ख़राब करूँ

है मेरे चारों तरफ़ भीड़ गूँगे बहरों की
किसे ख़तीब बनाऊँ किसे ख़िताब करूँ

मैं करवटों के नए ज़ाइक़े लिखूँ शब-भर
ये इश्क़ है तो कहाँ ज़िंदगी अज़ाब करूँ

ये ज़िंदगी जो मुझे क़र्ज़-दार करती रही
कहीं अकेले में मिल जाए तो हिसाब करूँ

- Rahat Indori
1 Like

Ulfat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Ulfat Shayari Shayari