haath khaali hain tire shehar se jaate jaate | हाथ ख़ाली हैं तिरे शहर से जाते जाते - Rahat Indori

haath khaali hain tire shehar se jaate jaate
jaan hoti to meri jaan lutate jaate

ab to har haath ka patthar humein pahchaanta hai
umr guzri hai tire shehar mein aate jaate

ab ke mayus hua yaaron ko ruksat kar ke
ja rahe the to koi zakham lagaate jaate

renagne ki bhi ijaazat nahin hum ko warna
hum jidhar jaate naye phool khilaate jaate

main to jalte hue seharaaon ka ik patthar tha
tum to dariya the meri pyaas bujhaate jaate

mujh ko rone ka saleeqa bhi nahin hai shaayad
log hanste hain mujhe dekh ke aate jaate

hum se pehle bhi musaafir kai guzre honge
kam se kam raah ke patthar to hataate jaate

हाथ ख़ाली हैं तिरे शहर से जाते जाते
जान होती तो मिरी जान लुटाते जाते

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है
उम्र गुज़री है तिरे शहर में आते जाते

अब के मायूस हुआ यारों को रुख़्सत कर के
जा रहे थे तो कोई ज़ख़्म लगाते जाते

रेंगने की भी इजाज़त नहीं हम को वर्ना
हम जिधर जाते नए फूल खिलाते जाते

मैं तो जलते हुए सहराओं का इक पत्थर था
तुम तो दरिया थे मिरी प्यास बुझाते जाते

मुझ को रोने का सलीक़ा भी नहीं है शायद
लोग हँसते हैं मुझे देख के आते जाते

हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते

- Rahat Indori
81 Likes

Phool Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Phool Shayari Shayari