raaton ka tasavvur hai unka aur chupke-chupke rona hai | रातों का तसव्वुर है उनका और चुपके-चुपके रोना है - Saghar Nizami

raaton ka tasavvur hai unka aur chupke-chupke rona hai
ai subh ke taare tu hi bata anjaam mera kya hona hai

in nau-ras aankhon waalon ka kya hansna hai kya rona hai
barase hue sacche moti hain bahta hua khaalis sona hai

dil ko khoya khud bhi khoye duniya khoi deen bhi khoya
ye gum-shudgi hai to ik din ai dost tujhe bhi khona hai

tameiz-e-kamaal-o-naks utha ye to raushan hai duniya par
main chandan hoon tu kundan hai main mitti hoontoo sona hai

tu ye na samajh lillaah ki hai taskin tire deewaanon ko
vehshat mein hamaara hansparna dar-asl hamaara rona hai

maatam hai meri awaaz shikast-e-saaj-e-dil-e-sad-paara ka
saagar mera naghma bhi deepak ke suron mein rona hai

रातों का तसव्वुर है उनका और चुपके-चुपके रोना है
ऐ सुब्ह के तारे तू ही बता अन्जाम मिरा क्या होना है

इन नौ-रस आंखों वालों का क्या हंसना है, क्या रोना है
बरसे हुए सच्चे मोती हैं बहता हुआ ख़ालिस सोना है

दिल को खोया ख़ुद भी खोए, दुनिया खोई, दीन भी खोया
ये गुम-शुदगी है तो इक दिन ऐ दोस्त तुझे भी खोना है

तमईज़-ए-कमाल-ओ-नक्स उठा ये तो रौशन है दुनिया पर
मैं चन्दन हूँ तू कुन्दन है मैं मिट्टी हूंतू सोना है

तू ये न समझ लिल्लाह कि है तस्कीन तिरे दीवानों को
वहशत में हमारा हंसपड़ना दर-अस्ल हमारा रोना है

मातम है मेरी आवाज़ शिकस्त-ए-साज-ए-दिल-ए-सद-पारा का
’सागर’ मेरा नग़्मा भी दीपक के सुरों में रोना है

- Saghar Nizami
0 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Saghar Nizami

As you were reading Shayari by Saghar Nizami

Similar Writers

our suggestion based on Saghar Nizami

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari