sansaar ki har shay ka itna hi fasana hai | संसार की हर शय का इतना ही फ़साना है - Sahir Ludhianvi

sansaar ki har shay ka itna hi fasana hai
ik dhund se aana hai ik dhund mein jaana hai

ye raah kahaan se hai ye raah kahaan tak hai
ye raaz koi raahi samjha hai na jaana hai

ik pal ki palak par hai thehri hui ye duniya
ik pal ke jhapakne tak har khel suhaana hai

kya jaane koi kis par kis mod par kya beete
is raah mein ai raahi har mod bahaana hai

hum log khilauna hain ik aise khilaadi ka
jis ko abhi sadiyon tak ye khel rachaana hai

संसार की हर शय का इतना ही फ़साना है
इक धुँद से आना है इक धुँद में जाना है

ये राह कहाँ से है ये राह कहाँ तक है
ये राज़ कोई राही समझा है न जाना है

इक पल की पलक पर है ठहरी हुई ये दुनिया
इक पल के झपकने तक हर खेल सुहाना है

क्या जाने कोई किस पर किस मोड़ पर क्या बीते
इस राह में ऐ राही हर मोड़ बहाना है

हम लोग खिलौना हैं इक ऐसे खिलाड़ी का
जिस को अभी सदियों तक ये खेल रचाना है

- Sahir Ludhianvi
5 Likes

Aadmi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sahir Ludhianvi

As you were reading Shayari by Sahir Ludhianvi

Similar Writers

our suggestion based on Sahir Ludhianvi

Similar Moods

As you were reading Aadmi Shayari Shayari