koi batlaaye uski baat humein | कोई बतलाए उसकी बात हमें - Shadab Javed

koi batlaaye uski baat humein
vo jo kehta tha kaaynaat humein

pehle hum raat kaat lete the
aur ab kaatti hai raat humein

hum ne vo baat bhi samajh li hai
jo samajhni nahin thi baat humein

varna hum laash hain mukammal laash
zinda rakhte hain haadsaat humein

auliya mein shumaar hote hum
rok leti hain khwahishaat humein

chaah kar in badan-salaakhon se
hum pe jaaiz nahin nijaat humein

hum hain deemak-zada darqat ki khaak
kaat sakte hain kaagzaat humein

ye jo ghazlen hamaari hain shaadaab
le na dooben ye kaafiraat humein

कोई बतलाए उसकी बात हमें
वो जो कहता था कायनात हमें

पहले हम रात काट लेते थे
और अब काटती है रात हमें

हम ने वो बात भी समझ ली है
जो समझनी नहीं थी बात हमें

वरना हम लाश हैं मुकम्मल लाश
ज़िंदा रखते हैं हादसात हमें

औलिया में शुमार होते हम
रोक लेती हैं ख़्वाहिशात हमें

चाह कर इन बदन-सलाखों से
हम पे जाइज़ नहीं निजात हमें

हम हैं दीमक-ज़दा दरख़्त की ख़ाक
काट सकते हैं काग़ज़ात हमें

ये जो ग़ज़लें हमारी हैं शादाब
ले न डूबें ये काफ़िरात हमें

- Shadab Javed
4 Likes

Chaahat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shadab Javed

As you were reading Shayari by Shadab Javed

Similar Writers

our suggestion based on Shadab Javed

Similar Moods

As you were reading Chaahat Shayari Shayari