ye jo izhaar karna hota hai | ये जो इज़हार करना होता है - Shahid Zaki

ye jo izhaar karna hota hai
kaar-e-be-kaar karna hota hai

qabr vo naav hai ki jis mein hamein
aasmaan paar karna hota hai

khaal-o-khud se gurez karna bhi
lams bedaar karna hota hai

ishq vo kaar-e-yak-b-yak hai jise
marhala-waar karna hota hai

apne andar khala-puri ke liye
khud ko mismar karna hota hai

ham pas-e-daar seekh aate hain
jo sar-e-daar karna hota hai

kitna aasaan hai sochna shaahid
kitna dushwaar karna hota hai

ये जो इज़हार करना होता है
कार-ए-बे-कार करना होता है

क़ब्र वो नाव है कि जिस में हमें
आसमाँ पार करना होता है

ख़ाल-ओ-ख़द से गुरेज़ करना भी
लम्स बेदार करना होता है

इश्क़ वो कार-ए-यक-ब-यक है जिसे
मरहला-वार करना होता है

अपने अंदर ख़ला-पुरी के लिए
ख़ुद को मिस्मार करना होता है

हम पस-ए-दार सीख आते हैं
जो सर-ए-दार करना होता है

कितना आसाँ है सोचना 'शाहिद'
कितना दुश्वार करना होता है

- Shahid Zaki
1 Like

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shahid Zaki

As you were reading Shayari by Shahid Zaki

Similar Writers

our suggestion based on Shahid Zaki

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari