bheed mein jab tak rahte hain josheele hain | भीड़ में जब तक रहते हैं जोशीले हैं - Shariq Kaifi

bheed mein jab tak rahte hain josheele hain
alag alag ham log bahut maik hain

khwaab ke badle khoon chukaana padta hai
aankhon ke ye khel bade kharcheele hain

beenaai bhi kya kya dhoke deti hai
door se dekho saare dariya neele hain

sehra mein bhi gaau ka dariya saath raha
dekho mere paav abhi tak geelay hain

भीड़ में जब तक रहते हैं जोशीले हैं
अलग अलग हम लोग बहुत शर्मीले हैं

ख़्वाब के बदले ख़ून चुकाना पड़ता है
आँखों के ये खेल बड़े ख़रचीले हैं

बीनाई भी क्या क्या धोके देती है
दूर से देखो सारे दरिया नीले हैं

सहरा में भी गाऊँ का दरिया साथ रहा
देखो मेरे पावँ अभी तक गीले हैं

- Shariq Kaifi
3 Likes

Aadmi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Aadmi Shayari Shayari