kam se kam duniya se itna mera rishta ho jaaye | कम से कम दुनिया से इतना मिरा रिश्ता हो जाए - Shariq Kaifi

kam se kam duniya se itna mera rishta ho jaaye
koi mera bhi bura chaahne waala ho jaaye

isee majboori mein ye bheed ikattha hai yahan
jo tire saath nahin aaye vo tanhaa ho jaaye

shukr us ka ada karne ka khayal aaye kise
abr jab itna ghana ho ki andhera ho jaaye

haan nahin chahiye us darja mohabbat teri
ki mera sach bhi tire jhooth ka hissa ho jaaye

band aankhon ne saraabo se bachaaya hai mujhe
aankh waala ho to is khel mein andha ho jaaye

main bhi qatra hoon tiri baat samajh saka hoon
ye ki mit jaane ke dar se koi dariya ho jaaye

bas isee baat pe aainon se bigdi meri
chahta tha mera apna koi chehra ho jaaye

bazm-e-yaaraan mein yahi rang to dete hain maza
koi roye to hasi se koi dohraa ho jaaye

कम से कम दुनिया से इतना मिरा रिश्ता हो जाए
कोई मेरा भी बुरा चाहने वाला हो जाए

इसी मजबूरी में ये भीड़ इकट्ठा है यहाँ
जो तिरे साथ नहीं आए वो तन्हा हो जाए

शुक्र उस का अदा करने का ख़याल आए किसे
अब्र जब इतना घना हो कि अँधेरा हो जाए

हाँ नहीं चाहिए उस दर्जा मोहब्बत तेरी
कि मिरा सच भी तिरे झूट का हिस्सा हो जाए

बंद आँखों ने सराबों से बचाया है मुझे
आँख वाला हो तो इस खेल में अंधा हो जाए

मैं भी क़तरा हूँ तिरी बात समझ सकता हूँ
ये कि मिट जाने के डर से कोई दरिया हो जाए

बस इसी बात पे आईनों से बिगड़ी मेरी
चाहता था मिरा अपना कोई चेहरा हो जाए

बज़्म-ए-याराँ में यही रंग तो देते हैं मज़ा
कोई रोए तो हँसी से कोई दोहरा हो जाए

- Shariq Kaifi
0 Likes

Rishta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Rishta Shayari Shayari