aisi achhi soorat nikli paani ki | ऐसी अच्छी सूरत निकली पानी की - Swapnil Tiwari

aisi achhi soorat nikli paani ki
aankhen peeche chhoot gaeein sailaani ki

kairam ho shatranj ho ya phir ishq hi ho
khel koi ho hum ne be-imaani ki

qaid hui hain aankhen khwaab jazeera par
pa kar ek saza si kaale paani ki

deewaron par chaand sitaare raushan hain
bacchon ne dekho to kya shaitani ki

chaand ki goli raat ne kha hi li aakhir
pehle to shaitaan ne aana-kaani ki

jalte diye sa ik bosa rakh kar us ne
chamak badha di hai meri peshaani ki

main us ki aankhon ke peeche bhaaga tha
jab afwaah udri thi un mein paani ki

ऐसी अच्छी सूरत निकली पानी की
आँखें पीछे छूट गईं सैलानी की

कैरम हो शतरंज हो या फिर इश्क़ ही हो
खेल कोई हो हम ने बे-ईमानी की

क़ैद हुई हैं आँखें ख़्वाब जज़ीरे पर
पा कर एक सज़ा सी काले पानी की

दीवारों पर चाँद सितारे रौशन हैं
बच्चों ने देखो तो क्या शैतानी की

चाँद की गोली रात ने खा ही ली आख़िर
पहले तो शैतान ने आना-कानी की

जलते दिए सा इक बोसा रख कर उस ने
चमक बढ़ा दी है मेरी पेशानी की

मैं उस की आँखों के पीछे भागा था
जब अफ़्वाह उड़ी थी उन में पानी की

- Swapnil Tiwari
0 Likes

Akhbaar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Swapnil Tiwari

As you were reading Shayari by Swapnil Tiwari

Similar Writers

our suggestion based on Swapnil Tiwari

Similar Moods

As you were reading Akhbaar Shayari Shayari