kiran ik mo'jiza sa kar gai hai | किरन इक मो'जिज़ा सा कर गई है - Swapnil Tiwari

kiran ik mo'jiza sa kar gai hai
dhanak kamre mein mere bhar gai hai

uchak kar dekhti thi neend tum ko
lo ye aankhon se gir kar mar gai hai

khamoshi chhup rahi hai ab sada se
ye bacchi ajnabi se dar gai hai

khule milte hain mujh ko dar hamesha
mere haathon mein dastak bhar gai hai

use kuch ashk laane ko kaha tha
kahaan ja kar udaasi mar gai hai

ujaalon mein chhupi thi ek ladki
falak ka rang-rogan kar gai hai

vo phir ubharegi thodi saans bharne
nadi mein lehar jo andar gai hai

किरन इक मो'जिज़ा सा कर गई है
धनक कमरे में मेरे भर गई है

उचक कर देखती थी नींद तुम को
लो ये आँखों से गिर कर मर गई है

ख़मोशी छुप रही है अब सदा से
ये बच्ची अजनबी से डर गई है

खुले मिलते हैं मुझ को दर हमेशा
मिरे हाथों में दस्तक भर गई है

उसे कुछ अश्क लाने को कहा था
कहाँ जा कर उदासी मर गई है

उजालों में छुपी थी एक लड़की
फ़लक का रंग-रोग़न कर गई है

वो फिर उभरेगी थोड़ी साँस भरने
नदी में लहर जो अंदर गई है

- Swapnil Tiwari
0 Likes

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Swapnil Tiwari

As you were reading Shayari by Swapnil Tiwari

Similar Writers

our suggestion based on Swapnil Tiwari

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari