dard khaamosh raha tootti awaaz rahi | दर्द ख़ामोश रहा टूटती आवाज़ रही - Tahir Faraz

dard khaamosh raha tootti awaaz rahi
meri har shaam tiri yaad ki hamraaz rahi

shehar mein jab bhi chale thandi hawa ke jhonke
tapte sehra ki tabi'at badi na-saaz rahi

aaine toot gaye aks ki sacchaai par
aur sacchaai hamesha ki tarah raaz rahi

ik naye mod pe us ne bhi mujhe chhod diya
jis ki awaaz mein shaamil meri awaaz rahi

sunta rehta hoon buzurgon se main akshar taahir
vo sama'at hi rahi aur na vo awaaz rahi

दर्द ख़ामोश रहा टूटती आवाज़ रही
मेरी हर शाम तिरी याद की हमराज़ रही

शहर में जब भी चले ठंडी हवा के झोंके
तपते सहरा की तबीअ'त बड़ी ना-साज़ रही

आइने टूट गए अक्स की सच्चाई पर
और सच्चाई हमेशा की तरह राज़ रही

इक नए मोड़ पे उस ने भी मुझे छोड़ दिया
जिस की आवाज़ में शामिल मिरी आवाज़ रही

सुनता रहता हूँ बुज़ुर्गों से मैं अक्सर 'ताहिर'
वो समाअ'त ही रही और न वो आवाज़ रही

- Tahir Faraz
2 Likes

Pollution Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tahir Faraz

As you were reading Shayari by Tahir Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Tahir Faraz

Similar Moods

As you were reading Pollution Shayari Shayari