na neend aur na khwaabon se aankh bharni hai | न नींद और न ख़्वाबों से आँख भरनी है - Tehzeeb Hafi

na neend aur na khwaabon se aankh bharni hai
ki us se hum ne tujhe dekhne ki karne hai

kisi darakht ki hiddat mein din guzaarna hai
kisi charaagh ki chaanv mein raat karne hai

vaa phool aur kisi shaakh par nahin khilna
vo zulf sirf mere haath se sanvarni hai

tamaam nakhuda saahil se door ha jaayen
samundron se akela mein baat karne hai

hamaare gaav ka har phool marne waala hai
ab is gali se vo khush-boo nahin guzarni hai

tire ziyaan pe main apna jiyaan na kar baithoon
ki mujh mureed ka murshid owais qarni hai

न नींद और न ख़्वाबों से आँख भरनी है
कि उस से हम ने तुझे देखने की करनी है

किसी दरख़्त की हिद्दत में दिन गुज़ारना है
किसी चराग़ की छाँव में रात करनी है

वा फूल और किसी शाख़ पर नहीं खिलना
वो ज़ुल्फ़ सिर्फ़ मिरे हाथ से सँवरनी है

तमाम नाख़ुदा साहिल से दूर हा जाएँ
समुंदरों से अकेले में बात करनी है

हमारे गाँव का हर फूल मरने वाला है
अब इस गली से वो ख़ुश-बू नहीं गुज़रनी है

तिरे ज़ियाँ पे मैं अपना जियाँ न कर बैठूँ
कि मुझ मुरीद का मुर्शिद औवेस क़र्नी है

- Tehzeeb Hafi
13 Likes

Shajar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Shajar Shayari Shayari