vaise main ne duniya mein kya dekha hai | वैसे मैं ने दुनिया में क्या देखा है - Tehzeeb Hafi

vaise main ne duniya mein kya dekha hai
tum kahte ho to phir achha dekha hai

main us ko apni vehshat tohfe mein doon
haath uthaaye jis ne sehra dekha hai

bin dekhe us ki tasveer bana loonga
aaj to main ne us ko itna dekha hai

ek nazar mein manzar kab khulte hain dost
tu ne dekha bhi hai to kya dekha hai

ishq mein banda mar bhi saka hai main ne
dil ki dastaavez mein likha dekha hai

main to aankhen dekh ke hi batla doonga
tum mein se kis kis ne dariya dekha hai

aage seedhe haath pe ek taraai hai
main ne pehle bhi ye rasta dekha hai

tum ko to is baagh ka naam pata hoga
tum ne to is shehar ka naqsha dekha hai

वैसे मैं ने दुनिया में क्या देखा है
तुम कहते हो तो फिर अच्छा देखा है

मैं उस को अपनी वहशत तोहफ़े में दूँ
हाथ उठाए जिस ने सहरा देखा है

बिन देखे उस की तस्वीर बना लूँगा
आज तो मैं ने उस को इतना देखा है

एक नज़र में मंज़र कब खुलते हैं दोस्त
तू ने देखा भी है तो क्या देखा है

इश्क़ में बंदा मर भी सकता है मैं ने
दिल की दस्तावेज़ में लिखा देखा है

मैं तो आँखें देख के ही बतला दूँगा
तुम में से किस किस ने दरिया देखा है

आगे सीधे हाथ पे एक तराई है
मैं ने पहले भी ये रस्ता देखा है

तुम को तो इस बाग़ का नाम पता होगा
तुम ने तो इस शहर का नक़्शा देखा है

- Tehzeeb Hafi
69 Likes

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari