isee nadaamat se us ke kandhe jhuke hue hain | इसी नदामत से उस के कंधे झुके हुए हैं - Zia Mazkoor

isee nadaamat se us ke kandhe jhuke hue hain
ki ham chhadi ka sahaara lekar khade hue hain

yahan se jaane ki jaldi kis ko hai tum batao
ki sootkeson mein kapde kis ne rakhe hue hain

kara to loonga ilaqa khaali main lad-jhagad kar
magar jo us ne dilon pe qabze kiye hue hain

vo khud parindon ka daana lene gaya hua hai
aur us ke bete shikaar karne gaye hue hain

tumhaare dil mein khuli dukano se lag raha hai
ye ghar yahan par bahut purane bane hue hain

main kaise baawar karau'n jaakar ye raushni ko
ki in charaagon pe mere paise lage hue hain

tumhaari duniya mein kitna mushkil hai bach ke chalna
qadam qadam par to aastaane bane hue hain

tum in ko chaaho to chhod sakte ho raaste mein
ye log vaise bhi zindagi se kate hue hain

इसी नदामत से उस के कंधे झुके हुए हैं
कि हम छड़ी का सहारा लेकर खड़े हुए हैं

यहाँ से जाने की जल्दी किस को है तुम बताओ
कि सूटकेसों में कपड़े किस ने रखे हुए हैं

करा तो लूँगा इलाक़ा ख़ाली मैं लड़-झगड़ कर
मगर जो उस ने दिलों पे क़ब्ज़े किए हुए हैं

वो ख़ुद परिंदों का दाना लेने गया हुआ है
और उस के बेटे शिकार करने गए हुए हैं

तुम्हारे दिल में खुली दुकानों से लग रहा है
ये घर यहाँ पर बहुत पुराने बने हुए हैं

मैं कैसे बावर कराऊँ जाकर ये रौशनी को
कि इन चराग़ों पे मेरे पैसे लगे हुए हैं

तुम्हारी दुनिया में कितना मुश्किल है बच के चलना
क़दम क़दम पर तो आस्ताने बने हुए हैं

तुम इन को चाहो तो छोड़ सकते हो रास्ते में
ये लोग वैसे भी ज़िंदगी से कटे हुए हैं

- Zia Mazkoor
7 Likes

Ghar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Zia Mazkoor

As you were reading Shayari by Zia Mazkoor

Similar Writers

our suggestion based on Zia Mazkoor

Similar Moods

As you were reading Ghar Shayari Shayari