use tum se mohabbat hai galat-fahmi mein mat rahna | उसे तुम से मोहब्बत है ग़लत-फ़हमी में मत रहना - Aadil Rahi

use tum se mohabbat hai galat-fahmi mein mat rahna
ye bas dil ki sharaarat hai galat-fahmi mein mat rahna

tumhi ko dekh kar vo muskurata hai to hairat kya
use hansne ki aadat hai galat-fahmi mein mat rahna

hue barbaad to ab aah-o-zaari kar rahe ho tum
kaha bhi tha siyaasat hai galat-fahmi mein mat rahna

main tujh ko chahta hoon baat ye sach hai magar phir bhi
mujhe teri zaroorat hai galat-fahmi mein mat rahna hi

jhuki nazaron se takna aur khamoshi se guzar jaana
mohabbat ki rivaayat hai galat-fahmi mein mat rahna

kiya karta hoon raahi us ki taarifein sabab ye hai
vo mujh se khoobsurat hai galat-fahmi mein mat rahna

उसे तुम से मोहब्बत है ग़लत-फ़हमी में मत रहना
ये बस दिल की शरारत है ग़लत-फ़हमी में मत रहना

तुम्ही को देख कर वो मुस्कुराता है तो हैरत क्या
उसे हँसने की आदत है ग़लत-फ़हमी में मत रहना

हुए बर्बाद तो अब आह-ओ-ज़ारी कर रहे हो तुम
कहा भी था सियासत है ग़लत-फ़हमी में मत रहना

मैं तुझ को चाहता हूँ बात ये सच है मगर फिर भी
मुझे तेरी ज़रूरत है ग़लत-फ़हमी में मत रहना ही

झुकी नज़रों से तकना और ख़मोशी से गुज़र जाना
मोहब्बत की रिवायत है ग़लत-फ़हमी में मत रहना

किया करता हूँ 'राही' उस की तारीफ़ें सबब ये है
वो मुझ से ख़ूबसूरत है ग़लत-फ़हमी में मत रहना

- Aadil Rahi
4 Likes

Miscellaneous Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aadil Rahi

As you were reading Shayari by Aadil Rahi

Similar Writers

our suggestion based on Aadil Rahi

Similar Moods

As you were reading Miscellaneous Shayari