yaadon ke nasheeman ko jalaya to nahin hai | यादों के नशेमन को जलाया तो नहीं है - Afzal Allahabadi

yaadon ke nasheeman ko jalaya to nahin hai
ham ne tujhe is dil se bhulaaya to nahin hai

kaunain ki wusa'at bhi simat jaati hai jis mein
ai dil kahi tujh mein vo samaaya to nahin hai

har shay se vo zaahir hai ye ehsaan hai us ka
khud ko meri nazaron se chhupaaya to nahin hai

zulfon ki syaahi mein ajab husn-e-nihaan hai
ye raat usi husn ka saaya to nahin hai

waqif hain tire dard se ai naghma-e-ulfat
ham ne tujhe har saaz pe gaaya to nahin hai

us ne jo likha tha kabhi saahil ki jabeen par
us naam ko maujon ne mitaaya to nahin hai

vo shehar ki is bheed mein aata nahin afzal
phir bhi chalo dekhen kahi aaya to nahin hai

यादों के नशेमन को जलाया तो नहीं है
हम ने तुझे इस दिल से भुलाया तो नहीं है

कौनैन की वुसअ'त भी सिमट जाती है जिस में
ऐ दिल कहीं तुझ में वो समाया तो नहीं है

हर शय से वो ज़ाहिर है ये एहसान है उस का
ख़ुद को मिरी नज़रों से छुपाया तो नहीं है

ज़ुल्फ़ों की स्याही में अजब हुस्न-ए-निहाँ है
ये रात उसी हुस्न का साया तो नहीं है

वाक़िफ़ हैं तिरे दर्द से ऐ नग़्मा-ए-उल्फ़त
हम ने तुझे हर साज़ पे गाया तो नहीं है

उस ने जो लिखा था कभी साहिल की जबीं पर
उस नाम को मौजों ने मिटाया तो नहीं है

वो शहर की इस भीड़ में आता नहीं 'अफ़ज़ल'
फिर भी चलो देखें कहीं आया तो नहीं है

- Afzal Allahabadi
0 Likes

Gaon Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Afzal Allahabadi

As you were reading Shayari by Afzal Allahabadi

Similar Writers

our suggestion based on Afzal Allahabadi

Similar Moods

As you were reading Gaon Shayari Shayari