khade hain dil mein jo barg-o-samar lagaaye hue | खड़े हैं दिल में जो बर्ग-ओ-समर लगाए हुए - Ahmad Mushtaq

khade hain dil mein jo barg-o-samar lagaaye hue
tumhaare haath ke hain ye shajar lagaaye hue

bahut udaas ho tum aur main bhi baitha hoon
gaye dinon ki kamar se kamar lagaaye hue

abhi sipaah-e-sitam khema-zan hai chaar taraf
abhi pade raho zanjeer-e-dar lagaaye hue

kahaan kahaan na gaye aalam-e-khayaal mein ham
nazar kisi ke dar-o-baam par lagaaye hue

vo shab ko cheer ke suraj nikaal bhi laaye
ham aaj tak hain ummeed-e-sehr lagaaye hue

dilon ki aag jalao ki ek umr hui
sada-e-naal-e-dood-o-sharar lagaaye hue

खड़े हैं दिल में जो बर्ग-ओ-समर लगाए हुए
तुम्हारे हाथ के हैं ये शजर लगाए हुए

बहुत उदास हो तुम और मैं भी बैठा हूँ
गए दिनों की कमर से कमर लगाए हुए

अभी सिपाह-ए-सितम ख़ेमा-ज़न है चार तरफ़
अभी पड़े रहो ज़ंजीर-ए-दर लगाए हुए

कहाँ कहाँ न गए आलम-ए-ख़याल में हम
नज़र किसी के दर-ओ-बाम पर लगाए हुए

वो शब को चीर के सूरज निकाल भी लाए
हम आज तक हैं उम्मीद-ए-सहर लगाए हुए

दिलों की आग जलाओ कि एक उम्र हुई
सदा-ए-नाल-ए-दूद-ओ-शरर लगाए हुए

- Ahmad Mushtaq
0 Likes

Udas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Mushtaq

As you were reading Shayari by Ahmad Mushtaq

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Mushtaq

Similar Moods

As you were reading Udas Shayari Shayari