shaam hoti hai to yaad aati hai saari baatein | शाम होती है तो याद आती है सारी बातें - Ahmad Mushtaq

shaam hoti hai to yaad aati hai saari baatein
vo dopahron ki khamoshi vo hamaari baatein

aankhen kholoon to dikhaai nahin deta koi
band karta hoon to ho jaati hain jaari baatein

kabhi ik harf nikalta nahin munh se mere
kabhi ik saans mein kar jaata hoon saari baatein

jaane kis khaak mein poshida hain aansu mere
kin fazaaon mein mu'alliq hain tumhaari baatein

kis mulaqaat ki ummeed liye baitha hoon
main ne kis din pe utha rakhi hain saari baatein

शाम होती है तो याद आती है सारी बातें
वो दोपहरों की ख़मोशी वो हमारी बातें

आँखें खोलूँ तो दिखाई नहीं देता कोई
बंद करता हूँ तो हो जाती हैं जारी बातें

कभी इक हर्फ़ निकलता नहीं मुँह से मेरे
कभी इक साँस में कर जाता हूँ सारी बातें

जाने किस ख़ाक में पोशीदा हैं आँसू मेरे
किन फ़ज़ाओं में मुअ'ल्लक़ हैं तुम्हारी बातें

किस मुलाक़ात की उम्मीद लिए बैठा हूँ
मैं ने किस दिन पे उठा रक्खी हैं सारी बातें

- Ahmad Mushtaq
1 Like

Khamoshi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Mushtaq

As you were reading Shayari by Ahmad Mushtaq

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Mushtaq

Similar Moods

As you were reading Khamoshi Shayari Shayari