daava to kiya husn-e-jahaan-soz ka sab ne | दावा तो किया हुस्न-ए-जहाँ-सोज़ का सब ने - Ahmad Nadeem Qasmi

daava to kiya husn-e-jahaan-soz ka sab ne
duniya ka magar roop badhaaya tiri chhab ne

tu neend mein bhi meri taraf dekh raha tha
sone na diya mujh ko siyah-chashmee-e-shab ne

har zakham pe dekhi hain tire pyaar ki mohrein
ye gul bhi khilaaye hain teri surkhi-e-lab ne

khushbu-e-badan aayi hai phir mauj-e-saba se
phir kis ko pukaara hai tire shehar tarab ne

darkaar hai mujh ko to faqat izn-e-tabassum
patthar se agar phool ugaae mere rab ne

vo husn hai insaan ki meraaj-e-tasavvur
jis husn ko pooja hai mere sher o adab ne

दावा तो किया हुस्न-ए-जहाँ-सोज़ का सब ने
दुनिया का मगर रूप बढ़ाया तिरी छब ने

तू नींद में भी मेरी तरफ़ देख रहा था
सोने न दिया मुझ को सियह-चश्मी-ए-शब ने

हर ज़ख़्म पे देखी हैं तिरे प्यार की मोहरें
ये गुल भी खिलाए हैं तेरी सुर्ख़ी-ए-लब ने

ख़ुशबू-ए-बदन आई है फिर मौज-ए-सबा से
फिर किस को पुकारा है तिरे शहर तरब ने

दरकार है मुझ को तो फ़क़त इज़्न-ए-तबस्सुम
पत्थर से अगर फूल उगाए मिरे रब ने

वो हुस्न है इंसान की मेराज-ए-तसव्वुर
जिस हुस्न को पूजा है मिरे शेर ओ अदब ने

- Ahmad Nadeem Qasmi
0 Likes

Gaon Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Nadeem Qasmi

As you were reading Shayari by Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Moods

As you were reading Gaon Shayari Shayari