gulzaar-e-jahaan mein gul ki tarah go shaad hain ham shaadaab hain ham | गुलज़ार-ए-जहाँ में गुल की तरह गो शाद हैं हम शादाब हैं हम - Akhtar Shirani

gulzaar-e-jahaan mein gul ki tarah go shaad hain ham shaadaab hain ham
kahti hai ye hans kar subh-e-khizaan sab naaz-e-abs ik khwaab hain ham

kis maah-e-laqaa ke ishq mein yun bechain hain ham betaab hain ham
kirnon ki tarah aawaara hain ham taaron ki tarah be-khwab hain ham

mit jaane pe bhi masroor hain ham murjhaane pe bhi shaadaab hain ham
shahba-e-shabaab-o-ishq ka ik bhoola hua rangeen khwaab hain ham

fitrat ke jamaal-e-rangeen se ham ne bhi uthaaye hain parde
barbat hai agar firdaus-e-jahaan to is ke liye mizraab hain ham

khush-waqtī hai wajh-e-ranj-o-alam gulzaar-e-jahaan mein ai hamdam
taair na pukaare shaad hain ham gunche na kahein shaadaab hain ham

milne pe gar aayein koi makaan khaali nahin apne jalvo se
aur gosha-nasheen ho jaayen agar kamyab nahin naayaab hain ham

do din ke liye ham aaye hain ik shab ki jawaani laaye hain
firdaus-e-saraa-e-hasti mein ham rang-e-gul-e-mahtaab hain ham

ruswaai-e-sher-o-ishq ne vo rutba hamein akhtar baksha hai
fakhr-e-dekan-o-bengaal hain ham naaz-e-awadh-o-punjaab hain ham

गुलज़ार-ए-जहाँ में गुल की तरह गो शाद हैं हम शादाब हैं हम
कहती है ये हँस कर सुब्ह-ए-ख़िज़ाँ सब नाज़-ए-अबस इक ख़्वाब हैं हम

किस माह-ए-लक़ा के इश्क़ में यूँ बेचैन हैं हम बेताब हैं हम
किरनों की तरह आवारा हैं हम तारों की तरह बे-ख़्वाब हैं हम

मिट जाने पे भी मसरूर हैं हम मुरझाने पे भी शादाब हैं हम
शहबा-ए-शबाब-ओ-इश्क़ का इक भूला हुआ रंगीं ख़्वाब हैं हम

फ़ितरत के जमाल-ए-रंगीं से हम ने भी उठाए हैं पर्दे
बरबत है अगर फ़िरदौस-ए-जहाँ तो इस के लिए मिज़राब हैं हम

ख़ुश-वक़्ती है वज्ह-ए-रंज-ओ-अलम गुलज़ार-ए-जहाँ में ऐ हमदम
ताइर न पुकारें शाद हैं हम ग़ुंचे न कहें शादाब हैं हम

मिलने पे गर आएँ कोई मकाँ ख़ाली नहीं अपने जल्वों से
और गोशा-नशीं हो जाएँ अगर कमयाब नहीं नायाब हैं हम

दो दिन के लिए हम आए हैं इक शब की जवानी लाए हैं
फ़िरदौस-ए-सरा-ए-हस्ती में हम रंग-ए-गुल-ए-महताब हैं हम

रुसवाई-ए-शेर-ओ-इश्क़ ने वो रुत्बा हमें 'अख़्तर' बख़्शा है
फ़ख़्र-ए-दकन-ओ-बंगाल हैं हम नाज़-ए-अवध-ओ-पंजाब हैं हम

- Akhtar Shirani
0 Likes

Fantasy Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Shirani

As you were reading Shayari by Akhtar Shirani

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Shirani

Similar Moods

As you were reading Fantasy Shayari Shayari