khyaalistaan-e-hasti mein agar gham hai khushi bhi hai | ख़यालिस्तान-ए-हस्ती में अगर ग़म है ख़ुशी भी है - Akhtar Shirani

khyaalistaan-e-hasti mein agar gham hai khushi bhi hai
kabhi aankhon mein aansu hain kabhi lab par hasi bhi hai

inhi gham ki ghataon se khushi ka chaand niklega
andheri raat ke parde mein din ki raushni bhi hai

yoonhi takmeel hogi hashr tak tasveer-e-hasti ki
har ik takmeel aakhir mein payaam-e-nesti bhi hai

ye vo saaghar hai sahba-e-khudi se pur nahin hota
hamaare jaam-e-hasti mein sarishk-e-be-khudi bhi hai

ख़यालिस्तान-ए-हस्ती में अगर ग़म है ख़ुशी भी है
कभी आँखों में आँसू हैं कभी लब पर हँसी भी है

इन्ही ग़म की घटाओं से ख़ुशी का चाँद निकलेगा
अँधेरी रात के पर्दे में दिन की रौशनी भी है

यूँही तकमील होगी हश्र तक तस्वीर-ए-हस्ती की
हर इक तकमील आख़िर में पयाम-ए-नेस्ती भी है

ये वो साग़र है सहबा-ए-ख़ुदी से पुर नहीं होता
हमारे जाम-ए-हस्ती में सरिश्क-ए-बे-ख़ुदी भी है

- Akhtar Shirani
0 Likes

Eid Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Shirani

As you were reading Shayari by Akhtar Shirani

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Shirani

Similar Moods

As you were reading Eid Shayari Shayari