ranj aur ranj bhi tanhaai ka | रंज और रंज भी तन्हाई का - Altaf Hussain Hali

ranj aur ranj bhi tanhaai ka
waqt pahuncha meri ruswaai ka

umr shaayad na kare aaj wafa
kaatna hai shab-e-tanhaai ka

tum ne kyun vasl mein pahluu badla
kis ko da'wa hai shakebaai ka

ek din raah pe ja pahunchen ham
shauq tha baadiya-paimaai ka

us se naadaan hi ban kar miliye
kuchh ijaara nahin danaai ka

saath pardo mein nahin thaharti aankh
hausla kya hai tamaashaai ka

darmiyaan pa-e-nazar hai jab tak
ham ko da'wa nahin beenaai ka

kuchh to hai qadr tamaashaai ki
hai jo ye shauq khud-aaraai ka

us ko chhodaa to hai lekin ai dil
mujh ko dar hai tiri khud-raai ka

bazm-e-dushman mein na jee se utara
poochna kya tiri zebaai ka

yahi anjaam tha ai fasl-e-khizaan
gul o bulbul ki shanaasaai ka

madad ai jazba-e-taufeeq ki yaa
ho chuka kaam tawaanai ka

mohtasib uzr bahut hain lekin
izn ham ko nahin goyaai ka

honge haali se bahut aawaara
ghar abhi door hai ruswaai ka

रंज और रंज भी तन्हाई का
वक़्त पहुँचा मिरी रुस्वाई का

उम्र शायद न करे आज वफ़ा
काटना है शब-ए-तन्हाई का

तुम ने क्यूँ वस्ल में पहलू बदला
किस को दा'वा है शकेबाई का

एक दिन राह पे जा पहुँचे हम
शौक़ था बादिया-पैमाई का

उस से नादान ही बन कर मिलिए
कुछ इजारा नहीं दानाई का

सात पर्दों में नहीं ठहरती आँख
हौसला क्या है तमाशाई का

दरमियाँ पा-ए-नज़र है जब तक
हम को दा'वा नहीं बीनाई का

कुछ तो है क़द्र तमाशाई की
है जो ये शौक़ ख़ुद-आराई का

उस को छोड़ा तो है लेकिन ऐ दिल
मुझ को डर है तिरी ख़ुद-राई का

बज़्म-ए-दुश्मन में न जी से उतरा
पूछना क्या तिरी ज़ेबाई का

यही अंजाम था ऐ फ़स्ल-ए-ख़िज़ाँ
गुल ओ बुलबुल की शनासाई का

मदद ऐ जज़्बा-ए-तौफ़ीक़ कि याँ
हो चुका काम तवानाई का

मोहतसिब उज़्र बहुत हैं लेकिन
इज़्न हम को नहीं गोयाई का

होंगे 'हाली' से बहुत आवारा
घर अभी दूर है रुस्वाई का

- Altaf Hussain Hali
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Altaf Hussain Hali

As you were reading Shayari by Altaf Hussain Hali

Similar Writers

our suggestion based on Altaf Hussain Hali

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari