lambi raat se jab mili us ki zulf-e-daraaz | लम्बी रात से जब मिली उस की ज़ुल्फ़-ए-दराज़ - Ameeq Hanafi

lambi raat se jab mili us ki zulf-e-daraaz
khul kar saari gutthiyaan phir se ban gaeein raaz

us ki ik awaaz se sharmaaya sangeet
saarangi ka soz kya kya sitaar ka saaz

mera qaail ho gaya ye saara sansaar
rang-e-naaz mein jab mila mera rang-e-niyaaz

saazon ka sangeet kya paayal ki jhankaar
kaun sune is shor mein dil teri awaaz

un aankhon mein daal kar jab aankhen us raat
main dooba to mil gaye doobe hue jahaaz

लम्बी रात से जब मिली उस की ज़ुल्फ़-ए-दराज़
खुल कर सारी गुत्थियाँ फिर से बन गईं राज़

उस की इक आवाज़ से शरमाया संगीत
सारंगी का सोज़ क्या क्या सितार का साज़

मेरा क़ाइल हो गया ये सारा संसार
रंग-ए-नाज़ में जब मिला मेरा रंग-ए-नियाज़

साज़ों का संगीत क्या पायल की झंकार
कौन सुने इस शोर में दिल तेरी आवाज़

उन आँखों में डाल कर जब आँखें उस रात
मैं डूबा तो मिल गए डूबे हुए जहाज़

- Ameeq Hanafi
0 Likes

Protest Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameeq Hanafi

As you were reading Shayari by Ameeq Hanafi

Similar Writers

our suggestion based on Ameeq Hanafi

Similar Moods

As you were reading Protest Shayari Shayari