qahar ki kyun nigaah hai pyaare | क़हर की क्यूँ निगाह है प्यारे - Anand Narayan Mulla

qahar ki kyun nigaah hai pyaare
kya mohabbat gunaah hai pyaare

dil ko apni hi jalvaa-gaah samajh
aa nazar farsh-e-raah hai pyaare

fer li tu ne jab se apni nazar
meri duniya siyaah hai pyaare

shak bhi kis par meri mohabbat par
jis ka tu khud gawaah hai pyaare

teri maasoom si nazar ki qasam
yahi vajh-e-gunaah hai pyaare

do nigaahen jahaan pe mil jaayen
ishq ki shah-raah hai pyaare

munh jo si deti thi shikaayat ka
ab kidhar vo nigaah hai pyaare

jo b-zaahir nahin meri jaanib
vo nazar be-panaah hai pyaare

sach bata kuchh khafa hai tu mujh se
ya haya sadd-e-raah hai pyaare

ajnabi ban rahi hai teri nazar
khatm kya rasm o raah hai pyaare

raah-e-ulfat mein theharna kaisa
dam bhi lena gunaah hai pyaare

dil si shay aur na-pasand tujhe
apni apni nigaah hai pyaare

nek iraadon ke sang-rezon par
shah-raah-e-gunaah hai pyaare

lab pe aati hai jo hasi ban kar
ek aisi bhi aah hai pyaare

ishq mein vo bhi ek waqt hai jab
be-gunaahi gunaah hai pyaare

aur mulla ko kya mitaate ho
vo to yoonhi tabaah hai pyaare

क़हर की क्यूँ निगाह है प्यारे
क्या मोहब्बत गुनाह है प्यारे

दिल को अपनी ही जल्वा-गाह समझ
आ नज़र फ़र्श-ए-राह है प्यारे

फेर ली तू ने जब से अपनी नज़र
मेरी दुनिया सियाह है प्यारे

शक भी किस पर मिरी मोहब्बत पर
जिस का तू ख़ुद गवाह है प्यारे

तेरी मासूम सी नज़र की क़सम
यही वजह-ए-गुनाह है प्यारे

दो निगाहें जहाँ पे मिल जाएँ
इश्क़ की शाह-राह है प्यारे

मुँह जो सी देती थी शिकायत का
अब किधर वो निगाह है प्यारे

जो ब-ज़ाहिर नहीं मिरी जानिब
वो नज़र बे-पनाह है प्यारे

सच बता कुछ ख़फ़ा है तू मुझ से
या हया सद्द-ए-राह है प्यारे

अजनबी बन रही है तेरी नज़र
ख़त्म क्या रस्म ओ राह है प्यारे

राह-ए-उल्फ़त में ठहरना कैसा
दम भी लेना गुनाह है प्यारे

दिल सी शय और ना-पसंद तुझे
अपनी अपनी निगाह है प्यारे

नेक इरादों के संग-रेज़ों पर
शाह-राह-ए-गुनाह है प्यारे

लब पे आती है जो हँसी बन कर
एक ऐसी भी आह है प्यारे

इश्क़ में वो भी एक वक़्त है जब
बे-गुनाही गुनाह है प्यारे

और 'मुल्ला' को क्या मिटाते हो
वो तो यूँही तबाह है प्यारे

- Anand Narayan Mulla
0 Likes

Anjam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Narayan Mulla

As you were reading Shayari by Anand Narayan Mulla

Similar Writers

our suggestion based on Anand Narayan Mulla

Similar Moods

As you were reading Anjam Shayari Shayari