meri nazar mein khaak tere aaine pe gard hai | मिरी नज़र में ख़ाक तेरे आइने पे गर्द है - Bashir Badr

meri nazar mein khaak tere aaine pe gard hai
ye chaand kitna zard hai ye raat kitni sard hai

kabhi kabhi to yun laga ki ham sabhi masheen hain
tamaam shehar mein na koi zan na koi mard hai

khuda ki nazmon ki kitaab saari kaayenaat hai
ghazal ke she'r ki tarah har ek fard fard hai

hayaat aaj bhi kaneez hai huzoor-e-jabr mein
jo zindagi ko jeet le vo zindagi ka mard hai

ise tabarruk-e-hayaat kah ke palkon par rakhoon
agar mujhe yaqeen ho ye raaste ki gard hai

vo jin ke zikr se ragon mein daudti theen bijliyaan
unhin ka haath ham ne choo ke dekha kitna sard hai

मिरी नज़र में ख़ाक तेरे आइने पे गर्द है
ये चाँद कितना ज़र्द है ये रात कितनी सर्द है

कभी कभी तो यूँ लगा कि हम सभी मशीन हैं
तमाम शहर में न कोई ज़न न कोई मर्द है

ख़ुदा की नज़्मों की किताब सारी काएनात है
ग़ज़ल के शे'र की तरह हर एक फ़र्द फ़र्द है

हयात आज भी कनीज़ है हुज़ूर-ए-जब्र में
जो ज़िंदगी को जीत ले वो ज़िंदगी का मर्द है

इसे तबर्रुक-ए-हयात कह के पलकों पर रखूँ
अगर मुझे यक़ीन हो ये रास्ते की गर्द है

वो जिन के ज़िक्र से रगों में दौड़ती थीं बिजलियाँ
उन्हीं का हाथ हम ने छू के देखा कितना सर्द है

- Bashir Badr
2 Likes

Good night Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Good night Shayari Shayari