makhfi hain abhi dirham-o-deenaar hamaare | मख़्फ़ी हैं अभी दिरहम-ओ-दीनार हमारे - Dilawar Ali Aazar

makhfi hain abhi dirham-o-deenaar hamaare
mitti se nikal aayenge ashjaar hamaare

alfaaz se kheenchi gai tasveer-e-do-aalam
awaaz mein rakhe gaye aasaar hamaare

zangaar kiya jaata hai aaina-e-takhleeq
aur naqsh chale jaate hain bekar hamaare

kuchh zakham dikha saka hai ye rauzan-e-deewar
kuchh bhed bata sakti hai deewaar hamaare

kyun chaar anaasir rahein paaband-e-shab-o-roz
azaad kiye jaayen girftaar hamaare

kyun shaam se veeraan kiya jaata hai ham ko
kyun band kiye jaate hain bazaar hamaare

kya aap se ab sakhti-e-be-ja ki shikaayat
jab aap hue maalik-o-mukhtaari hamaare

tahseen-talab rahte hain ta-umr ki aazar
paida hi nahin hote taraf-daar hamaare

मख़्फ़ी हैं अभी दिरहम-ओ-दीनार हमारे
मिट्टी से निकल आएँगे अश्जार हमारे

अल्फ़ाज़ से खींची गई तस्वीर-ए-दो-आलम
आवाज़ में रक्खे गए आसार हमारे

ज़ंगार किया जाता है आईना-ए-तख़लीक़
और नक़्श चले जाते हैं बेकार हमारे

कुछ ज़ख़्म दिखा सकता है ये रौज़न-ए-दीवार
कुछ भेद बता सकती है दीवार हमारे

क्यूँ चार अनासिर रहें पाबंद-ए-शब-ओ-रोज़
आज़ाद किए जाएँ गिरफ़्तार हमारे

क्यूँ शाम से वीरान किया जाता है हम को
क्यूँ बंद किए जाते हैं बाज़ार हमारे

क्या आप से अब सख़्ती-ए-बे-जा की शिकायत
जब आप हुए मालिक-ओ-मुख़्तार हमारे

तहसीन-तलब रहते हैं ता-उम्र कि 'आज़र'
पैदा ही नहीं होते तरफ़-दार हमारे

- Dilawar Ali Aazar
0 Likes

Shaam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dilawar Ali Aazar

As you were reading Shayari by Dilawar Ali Aazar

Similar Writers

our suggestion based on Dilawar Ali Aazar

Similar Moods

As you were reading Shaam Shayari Shayari