khud mein khilte hue manzar se numoodaar hua | ख़ुद में खिलते हुए मंज़र से नुमूदार हुआ - Dilawar Ali Aazar

khud mein khilte hue manzar se numoodaar hua
vo jazeera jo samundar se numoodaar hua

meri tanhaai ne paida kiye saaye ghar mein
koi deewaar koi dar se numoodaar hua

chaaron itaraaf mere aaine rakhe gaye the
main hi main apne barabar se numoodaar hua

aaj ki raat guzaari hai diye ne mujh mein
aaj ka din mere andar se numoodaar hua

kya ajab naqsh hai vo naqsh jo is duniya ke
kahi andar kahi baahar se numoodaar hua

ek sholay ki lapak noor mein dhal kar aayi
ek kirdaar bahattar se numoodaar hua

haq ki pehchaan hui khalk ko aazar us waqt
jab ali aap ke bistar se numoodaar hua

ख़ुद में खिलते हुए मंज़र से नुमूदार हुआ
वो जज़ीरा जो समुंदर से नुमूदार हुआ

मेरी तन्हाई ने पैदा किए साए घर में
कोई दीवार कोई दर से नुमूदार हुआ

चारों अतराफ़ मिरे आइने रक्खे गए थे
मैं ही मैं अपने बराबर से नुमूदार हुआ

आज की रात गुज़ारी है दिए ने मुझ में
आज का दिन मिरे अंदर से नुमूदार हुआ

क्या अजब नक़्श है वो नक़्श जो इस दुनिया के
कहीं अंदर कहीं बाहर से नुमूदार हुआ

एक शो'ले की लपक नूर में ढल कर आई
एक किरदार बहत्तर से नुमूदार हुआ

हक़ की पहचान हुई ख़ल्क़ को 'आज़र' उस वक़्त
जब अली आप के बिस्तर से नुमूदार हुआ

- Dilawar Ali Aazar
0 Likes

Good night Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dilawar Ali Aazar

As you were reading Shayari by Dilawar Ali Aazar

Similar Writers

our suggestion based on Dilawar Ali Aazar

Similar Moods

As you were reading Good night Shayari Shayari