0

हवस से जिस्म को दो-चार करने वाली हवा  - Dilawar Ali Aazar

हवस से जिस्म को दो-चार करने वाली हवा
चली हुई है गुनहगार करने वाली हवा

यहीं कहीं मिरा लश्कर पड़ाव डालेगा
यहीं कहीं है गिरफ़्तार करने वाली हवा

तमाम सीना-सिपर पेड़ झुकने वाले हैं
हवा है और निगूँ-सार करने वाली हवा

पड़े हुए हैं यहाँ अब जो सर-बुरीदा चराग़
गुज़िश्ता रात थी यलग़ार करने वाली हवा

हमारी ख़ाक उड़ाती फिरे है शहर-ब-शहर
हमारी रूह का इंकार करने वाली हवा

उसी ख़राबे में रहने की ठान बैठी है
बदन का दश्त नहीं पार करने वाली हवा

न जाने कौन तरफ़ ले के चल पड़े 'आज़र'
धुएँ से मुझ को नुमूदार करने वाली हवा

Dilawar Ali Aazar
0

Share this on social media

Miscellaneous Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dilawar Ali Aazar

As you were reading Shayari by Dilawar Ali Aazar

Similar Writers

our suggestion based on Dilawar Ali Aazar

Similar Moods

As you were reading Miscellaneous Shayari