manzar se udhar khwaab ki paspaai se aage | मंज़र से उधर ख़्वाब की पस्पाई से आगे - Dilawar Ali Aazar

manzar se udhar khwaab ki paspaai se aage
main dekh raha hoon had-e-beenaai se aage

ye qais ki masnad hai so zeba hai usi ko
hai ishq saraasar meri danaai se aage

shaayad mere ajdaad ko maaloom nahin tha
ik baagh hai is dasht ki raanaai se aage

sab dekh rahi thi pas-e-deewaar tha jo kuchh
thi chashm-e-tamaashaai tamaashaai se aage

ham qaafiya-paimaai ke chakkar mein pade hain
hai sinf-e-ghazal qaafiya-paimaai se aage

ik din jo yoonhi pardaa-e-aflaak uthaya
barpa tha tamasha koi tanhaai se aage

mujh kaaghazi kashti pe nazar kijie aazar
badhti hai jo lehron ki tawaanai se aage

मंज़र से उधर ख़्वाब की पस्पाई से आगे
मैं देख रहा हूँ हद-ए-बीनाई से आगे

ये 'क़ैस' की मसनद है सो ज़ेबा है उसी को
है इश्क़ सरासर मिरी दानाई से आगे

शायद मिरे अज्दाद को मालूम नहीं था
इक बाग़ है इस दश्त की रानाई से आगे

सब देख रही थी पस-ए-दीवार था जो कुछ
थी चश्म-ए-तमाशाई तमाशाई से आगे

हम क़ाफ़िया-पैमाई के चक्कर में पड़े हैं
है सिन्फ़-ए-ग़ज़ल क़ाफ़िया-पैमाई से आगे

इक दिन जो यूँही पर्दा-ए-अफ़्लाक उठाया
बरपा था तमाशा कोई तन्हाई से आगे

मुझ काग़ज़ी कश्ती पे नज़र कीजिए 'आज़र'
बढ़ती है जो लहरों की तवानाई से आगे

- Dilawar Ali Aazar
0 Likes

Kashti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dilawar Ali Aazar

As you were reading Shayari by Dilawar Ali Aazar

Similar Writers

our suggestion based on Dilawar Ali Aazar

Similar Moods

As you were reading Kashti Shayari Shayari